राजधानी रायपुर में एक बार फिर पकड़ी गई अंग्रेजी शराब की बड़ी खेप

जब्त की गए महंगी अंग्रेजी शराब ब्लैक डॉग, चिवास रीगल, ब्लैक लेबल, एंटीक्विटी ब्लू, रेड लेबल, हंड्रेड पाइपर्स, आरएस ब्रैंड की इम्पोर्टेड शराब

रायपुर:राजधानी पुलिस ने ऑपेरशन क्लीन अभियान के तहत कोटा इलाके के जल विहार कॉलोनी में अवैध शराब का जखीरा बरामद किया है। पुलिस ने करीब 14 पेटी(183 बोतल) महंगी अंग्रेजी शराब के साथ एक आरोपित को गिरफ्तार किया है।

जब्त की गए महंगी अंग्रेजी शराब ब्लैक डॉग, चिवास रीगल, ब्लैक लेबल, एंटीक्विटी ब्लू, रेड लेबल, हंड्रेड पाइपर्स, आरएस ब्रैंड की इम्पोर्टेड शराब है। इसकी कीमत करीब छह लाख रुपए आंकी गई है।

आजाद चौक सीएसपी अंकिता शर्मा ने बताया कि अवैध नशे के खिलाफ पुलिस लगातार अभियान चला रहा है। इसी बीच मुखबिर से सूचना मिली थी कि कोटा इलाके के जलविहार कॉलोनी स्थित किराए पर लिए गए बी-141 मकान में बड़ी मात्रा में अवैध शराब रखी गई है।

सूचना के आधार पर पुलिस टीम ने छापेमारी की तो घर में 14 पेटी में इम्पोर्टेड ब्रैंड की अवैध शराब मिली। यह शराब हरियाणा, मप्र, महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों से लाई गई थी।पुलिस ने मूलत: मप्र के जबलपुर जिले के कोतवाली इलाके के अंधेड देव प्रिंस स्ट्रीट निवासी रमेश कुमार वाधवानी(60) को गिरफ्तार किया गया है।

आरोपित ने प्रारंभिक पूछताछ कर कार्रवाई की जा रही है। इस छापामार कार्रवाई में आजाद चौक सीएसपी अंकिता शर्मा, कुलदीप पाठक, सुनील पाठक, महेश नेताम और महिला आरक्षक खेमिन ध्रुव शामिल थी।

25 मार्च को भी हुई थी कार्रवाई

इससे पहले 25 मार्च को आजाद चौक सीएसपी अंकिता शर्मा के नेतृत्व में शराब के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। आमानाका इलाके के एक घर में दबिश देकर लगभग 150 लीटर कच्ची शराब बनाने का सामान बरामद किया गया था। पुलिस ने आरोपित जगतार सिंह (55) के खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की थी।

अलग-अलग शहरों से मंगाया शराब

पुलिस को बताया कि आरोपी रमेश वाधवानी ने शराब हरियाणा, मप्र, महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों से लाया था। जिसमें कई महंगे अंग्रेजी शराब शामिल है। जब्त की गई शराब की कीमत लगभग 6 लाख रुपए आंकी गई है। अवैध शराब की तस्करी लगातार बढ़ते जा रही है। रोजाना कई इलाकों में शराब की तस्करी के मामले देखे गए है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button