एक लाख से ज्यादा शिक्षाकर्मियों का संविलियन राज्य सरकार की एक बड़ी उपलब्धि: डॉ. रमन सिंह

सीएम ने जिले के प्रभारी सचिवों की ली बैठक

एक लाख से ज्यादा शिक्षाकर्मियों का संविलियन राज्य सरकार की एक बड़ी उपलब्धि: डॉ. रमन सिंह

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में प्रदेश के सभी 27 जिलों के प्रभारी सचिवों की बैठक लेकर विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से प्रधानमंत्री आवास योजना, मनरेगा, सार्वजनिक वितरण प्रणाली, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की प्रगति सहित संचार क्रांति योजना के तहत स्मार्ट फोन वितरण की तैयारी के बारे में जिलेवार जानकारी ली।

डॉ. सिंह ने इस बात पर खुशी जतायी कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना शुरू होने के लगभग दो वर्ष के भीतर राज्य में अब तक गरीब परिवारों की 22 लाख 77 हजार महिलाओं को सिर्फ 200 रूपए के पंजीयन शुल्क पर रसोई गैस कनेक्शन दिए जा चुकें हैं। उन्होंने एक लाख से ज्यादा शिक्षाकर्मियों के संविलियन की प्रकिया पूर्ण होने पर भी प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने इसके लिए संबंधित अधिकारियों और विभागों की प्रशंसा करते हुए कहा कि मेरी घोषणा के एक माह के भीतर एक लाख से ज्यादा शिक्षाकर्मियों का संविलियन एक बड़ी उपलब्धि है। अब इन शिक्षाकर्मियों को शिक्षक (एल.बी.) के पद नाम से जाना जाएगा और उन्हें नियमित वेतन चालू जुलाई माह से मिलने लगेगा।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने विकास यात्रा के प्रथम चरण के समापन के दिन 10 जून को अम्बिकापुर में आयोजित विशाल आम सभा में प्रदेश के शिक्षाकर्मियों के संविलियन की घोषणा की थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर अधिकारियों ने प्रदेश भर में विकासखंड स्तर पर शिविर लगाकर शिक्षाकर्मियों के संविलियन की समस्त औपचारिकताओं को तत्परता से पूर्ण कर लिया।

डॉ. रमन सिंह ने समीक्षा बैठक में वर्तमान खरीफ मौसम को ध्यान में रखते हुए किसानों के लिए खाद और बीज वितरण की व्यवस्था और प्रगति की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि विकास यात्रा के दूसरे चरण में तेन्दूपत्ता संग्राहकों को बोनस भी वितरित किया जाएगा।

सभी वन विभाग के अधिकारी उसके लिए जिला कलेक्टरों से समन्वय कर आवश्यक तैयारी जल्द पूर्ण करें। उन्होंने आबादी पट्टा वितरण, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना की प्रगति का भी अधिकारियों से ब्यौरा लिया। डॉ. सिंह ने बारिश के मौसम को देखते हुए सभी जिलों में स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता और उल्टी-दस्त जैसी संक्रामक बीमारियों की रोकथाम के लिए प्रशासन को मुस्तैद रहने के भी निर्देश दिए।

new jindal advt tree advt
Back to top button