छत्तीसगढ़

केन्द्र सरकार के किसान विरोधी बिल के खिलाफ कांग्रेसियों का एक दिवसीय धरना प्रदर्शन

किसान नेता अंजोर निषाद ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा जबरिया तरीके से किसान विरोधी काला कानून किसानों पर थोपा जा रहा है इस कानून से उद्योगपति अडानी अम्बानी को फायदा पहुंचाने की कोशिश की जा रही है।

नगरी।राजशेखर नायर

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस एवं छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार ब्लॉक कांग्रेस कमेटी नगरी,बेलरगांव, कुकरेल ने संयुक्त रूप से उपाध्यक्ष मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव की उपस्थिति में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के 151 जयंती एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व लालबहादुर शास्त्री जी की 116 जयंती के अवसर पर केन्द्र की भाजपा सरकार द्वारा पारित तीन किसान विरोधी बिल किसान उत्पादन व्यपार और वाणिज्य(संवर्धन और सुविधा) विधेयक 2020,किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन कृषि सेवा विधेयक 2020,आवश्यक वस्तु (संशोधन)विधेयक 2020 के विरोध में किसान मजदूर बचाओ दिवस मनाया गया।

इस कार्यक्रम मे उपस्थित किसान नेता अंजोर निषाद ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा जबरिया तरीके से किसान विरोधी काला कानून किसानों पर थोपा जा रहा है इस कानून से उद्योगपति अडानी अम्बानी को फायदा पहुंचाने की कोशिश की जा रही है।

अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी कैलाश प्रजापति ने कहा कि इस किसान विरोधी काले कानून स्पष्ट रूप से न्यूनतम समर्थन मूल्य का उल्लेख ही नही इस कानून से किसानों की फसल को बहुत ही कम दामो पर खरीदारी करने की षड्यंतकारी नीति बनाई जा रही है जो कि किसानी एवं किसानों को पूरी तरह से बर्बाद कर देगा।

यह भी पढ़ें :-राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन में 62 पदों पर भर्ती के लिए दस्तावेज परीक्षण 12 अक्टूबर से

पूर्व विधायक अम्बिका मरकाम ने कहा कि इस किसान कानून के जरिये मोदी कृषि को उद्योगपतियों के हवाले कर किसानों को बंधुवा मजदूर बनाने चाहते है इस कानून से किसानों की आर्थिक स्थिति कमजोर हो जाएगी एवं किसान बड़े उद्योगपतियो के सामने बेबस होकर हाशिये पर आ जायँगे।

इस दौरान उपाध्यक्ष मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण एवं सिहावा विधायक डॉ लक्ष्मी ध्रुव ने सवर्प्रथम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व लालबहादुर शास्त्री की जयंती पर उन्हें सादर नमन करते हुवे कहा कि जिस प्रकार बापू ने हमे सत्य अहिंसा एवं प्रेम का पाठ पढ़ाया और पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न लालबहादुर शास्त्री ने जय जवान जय किसान का नारा देकर भारत वर्ष में शांति एवं समृद्धि फैलाई है हम सभी कांग्रेसजनों को इन सभी अनुकरण कर बेहतर भारत के निर्माण में योगदान देना है।

छत्तीसगढ़ शासन ने आज इन महान स्वतंत्रता संग्रामियों के जन्मदिन के अबसर पर केन्द्र सरकार के किसान विरोधी कानून के विरोध में किसान मजदूर बचाओ दिवस मनाने का संकल्प लिया है।

यह भी पढ़ें :-सड़क बना जोखिम भरा,जिम्मेदार अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों की उदासीनता 

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के किसानों को सोचना होगा की किस प्रकार केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा अध्यादेश लागू कर किसानों के लिए तीन काले कानून पारित किया गया है कोरोना काल मे यह कानून बनाना समझ से परे है।

जब भी कोई किसान कानून बनाया जाता है तब संसद में गहन चर्चा एवं किसान संगठनो से बातचीत कर बनाया जाता है लेकिन सभी पार्टियों एवम किसान संगठनों को अंधेरे में रखकर यह कानून पारित किया गया है जो कि संदेह पैदा करता है।

चोर दरवाजे से इस कानून को पारित कर इस कानून में बहुत ही जटिल शब्दों का प्रयोग कर किसानों को भ्रमित किया जा रहा है।
केन्द्र सरकार द्वारा राज्यो के कानून पर अतिक्रमण कर उनके अधिकारों को कमजोर किया जा रहा है।

इस किसान विरोधी बिल मे कही पर न्यूनतम समर्थन मूल्य का उल्लेख नही किया गया है अगर केंद्र की भाजपा सरकार एक राष्ट्र एक बाजार की बात करती है तो एक राष्ट्र एक बाजार एक दर की बात क्यों नही कर पाती।

छत्तीसगढ़ में 5 एकड़ से कम जमीन वाले किसानों की संख्या 85% है इस स्थिति मे कृषि बाजार का नियंत्रण बड़े उद्योगपतियों के हाथ होगा एवं छोटे किसान उनसे मोल भाव की स्थिति में नही होंगे।

यह भी पढ़ें :-मुख्यमंत्री बघेल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा का किया अनावरण 

केन्द्र लगातार कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग की बात कर रही हैं इससे किसान अपने ही खेतो मे बंधुवा मजदूर बन कर रह जायंगे इस काले कानून से किसान के साथ साथ उपभोक्ता भी प्रभावित होगा।

भारत मे उदारवादी प्रजातंत्र को हटा कर मोदी अमेरिका की तरह पूंजीवादी व्यवस्था लागू कर सभी चीजों पर कॉरपोरेट जगत का कब्जा कराना चाहते है।

मोदी की खराब नीतियों के चलते भारत की जी डी पी मे लगातार ऐतिहासिक गिरावट आई है मोदी सरकार को न तो किसानों से ,मजदूरो से और न ही बेरोजगारो से मतलब है उन्हें तो सिर्फ अपने उद्योगपति मित्रो से मतलब है ।

मे सिहावा विधानसभा क्षेत्र की विधायक होने के नाते इस बिल का पुरजोर विरोध करती हूं एवं सभी किसान साथियों से वादा करती हूं कि छत्तीसगढ़ की भपेश सरकार किसानों के हित मे लगातार करती रहेगी एवं हर हाल मे किसानों को उनके फसलों का सही दाम दिलाकर रहेगी।

इस कार्यक्रम के अंत में समस्त कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने बजरंग चौक नगरी से तहसील कार्यालय तक पैदल मार्च कर इस किसान विरोधी बिल के खिलाफ भारत के राष्ट्रपति के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा।

यह भी पढ़ें :-150वीं जयंती : मंत्रालय परिसर में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा का हुआ अनावरण 

इस कार्यक्रम में पूर्व विधायक अम्बिका मरकाम, अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस बेलरगांव कैलाश प्रजापति, अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस नगरी राजेन्द्र सोनी,अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी कुकरेल करण चन्द्राकर,विधायक प्रतिनिधि रुद्रप्रताप नाग,जीवन नहाटा,भूषण साहूअंजोर निसाद,जिला पंचायत सदस्य मनोज साक्षी,पार्षद जियाउद्दीन रिज़वी,सोहन चतुर्वेदी,जितेंद्र ध्रुव, सुनीता निर्मलकर, एल्डरमैन भरत निर्मलकर, पेमन स्वर्णबेर, नरेश छेदिया,नारद साहू, अखिलेश दुबे,छवि सिन्हाअनवर रजा,सचिन भंसाली,अयूब खान,आसिफ मेमन,रिज़वान मेमन,रामकुमार सरोज,महेंद्र धेनुसेवक,राजेन्द्र ठाकुर,वीरेंद्र निर्मलकर,बल्लू पटेल,मनेंद्र गंगबेर,पिंकी यदु,पप्पू सेन,प्रदीप कोर,राहुल ध्रुव,दीनदयाल नाग, जगेश्वर साहू,रेणुका शर्मा,तमेश्वरी साहू,तुजेश्वरी साहू ,प्रीति साहू,तस्लीमा बेगम,अनुसुइया साहू,युवा कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप साहू,एन एस यू आई अध्यक्ष आदित्य तिवारी,तेजेन्द्र भट्ट,सोनू चौहान,भीष्म यादव,प्रदीप सोन,अकरम खान सोहेल मंसूरी,अंकुश देवांगन एवं समस्त कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित थे। सरकार के किसान विरोधी बिल के खिलाफ कांग्रेसियों का एक दिवसीय धरना प्रदर्शन

 

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button