छत्तीसगढ़

कृषि और खाद्य प्रसंस्करण पर एक दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न

धमतरी : वाणिज्य तथा उद्योग विभाग और कृषि एवं जैव प्रौद्योगिकी विभाग के संयुक्त तत्वावधान में 14 फरवरी को कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण आधारित उद्योगों की स्थापना और विकास पर एक दिवसीय कार्यशाला जिला पंचायत के सभाकक्ष में आयोजित की गई। कार्यशाला में उपस्थित किसानों को मार्गदर्शन देते हुए कलेक्टर डॉ. सी.आर. प्रसन्ना ने कहा कि वे अपने उत्पाद का पहला चरण प्रसंस्करण करने के बाद ही बाजार में बेचें। इससे उनकी आय दुगनी होगी ही, साथ ही वे अपने हर उत्पाद का खरीददार द्वारा क्या उपयोग किया जाता है, इसे जानकर वह स्वयं कार्य कर उनके उत्पाद की कीमत एवं आय में वृद्धि कर सकेगा। विदित हो कि कार्यशाला के आयोजन का मुख्य उद्देश्य किसानों की आय को वर्ष 2022 तक दोगुना करने की दिशा में शासन के विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे प्रयास एवं योजनाओं की जानकारी उपस्थित किसानों को दिया जाना है।

जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक ने कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योग प्रारंभ करने पर शासन की ओर से दी जाने वाली विभिन्न छूट एवं सुविधाओं की जानकारी दी। उप संचालक कृषि, उप संचालक पशुपालन, सहायक संचालक उद्यानिकी, सहायक संचालक मछलीपालन तथा नाबार्ड के जिला प्रबंधक द्वारा किसानों की आय में वृद्धि के संबंध में अपने-अपने विभाग में संचालित योजनाओं की विस्तृत जानकारी किसानों को दी गई। किसानों की ओर से मुख्य रूप से चोवा राम, लीलाराम साहू एवं भोलाराम साहू इत्यादि ने कार्यशाला में मौजूद रहे तथा किसानों की ओर से बंदर, जंगली सुअर इत्यादि जानवरों से फसलों को हो रहे नुकसान की ओर शासन का ध्यान आकर्षित करने की बात रखी। साथ ही इस संबंध में सुझाव दिए गए कि अधिक से अधिक कांजी हाउस खोला जाए तथा सोलर फेंसिंग स्थापित करने में शासन के सहयोग की अपेक्षा की।

Tags
Back to top button