शिक्षा सत्र 2019-20 में निजी विद्यालयों में 1 मार्च से आनलाईन आवेदन

हितेश दीक्षित

गरियाबंद। निःशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम (आर.टी.ई.) के तहत शिक्षा सत्र 2019-20 में मान्यता प्राप्त अशासकीय निजी विद्यालयों में प्रवेश , पारदर्शी व पूरे प्रदेश में एक निश्चित समय में हो इस उद्देश्य से संपूर्ण प्रवेश प्रक्रिया विगत वर्ष की भांति आनलाईन होगी।

जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि सत्र 2019-20 में आर.टी.ई. के तहत निजी विद्यालयों में प्र्रवेश हेतु दिनांक 01 मार्च से 30 मार्च 2019 के मध्य आनलाईन आवेदन प्राप्त किये जाएगें। इच्छुक आवेदक अभ्यर्थी के माता-पिता या अभिभावक निःशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम के तहत प्रवेश हेतु आर.टी.ई पोर्टल के माध्यम से उक्त समयावधि में लोक सेवा केन्द्र व सी.एस.सी एजेन्टस, इंटरनेट कैफे या किसी भी नागरिक सहयोगी संस्था के अतिरिक्त विकासखण्ड कार्यालयों, नोडल शाला कार्यालयों से आनलाईन आवेदन जमा कर सकते हैं।

आवेदक, आवेदन फार्म व आवश्यक दस्तावेज आवेदित निजी शालाओं की शासकीय नोडल शाला में नोडल प्राचार्य के पास अवश्य जमा करें तथा आवेदन फार्म की एक काॅपी अपने पास रखें। अभिभावक अपने आवेदन की स्थिति आनलाईन देख सकेगें एवं एस.एम.एस. के माध्यम से आवश्यक जानकारी प्रदान की जायेगी। अतः आवेदन करते समय सही मोबाइल नंबर की प्रविष्टि करें।

आवेदक इस बात का विशेष ध्यान रखें की प्रवेश हेतु केवल एक ही आवेदन करें, आवेदित आवेदन में किसी प्रकार की त्रुटि होने पर उसी आवेदन क्रमांक की सहायता से सुधार करें, पुनः नवीन आवेदन न करें। आवेदन उपरांत प्रवेश की प्रक्रिया/कार्यवाही/लाॅटरी आदि माह अप्रैल से प्रारंभ होगी। प्रवेश संबंधी किसी भी प्रकार की जानकारी अथवा किसी भी असुविधा होने पर हेल्पलाइन नंबर 011-395-89101 पर मिस काॅल देकर समुचित जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

निम्नलिखित श्रेणी के लोग इस योजना का लाभ उठा सकते है – 1. असुविधाप्राप्त समूह, जिसके अंतर्गत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, परिलक्षित आदिम जनजाति, परंपरागत वन वनवासी, दिव्यांग जिनके लिये आवश्यक दस्तावेज जाति प्रमाण पत्र/दिव्यांगजन प्रमाण पत्र व 2. दुर्बल वर्ग जिसके अंतर्गत गरीबी रेेखा के नीचे, एच.आई.वी. जिनके लिये आवश्यक दस्तावेज बी.पी.एल.कार्ड (जनपद अथवा नगरीय निकाय से प्रमाणित) तथा उक्त दोनों समूह असुविधाप्राप्त व दुर्बल समूह के लिये निवास और पहचान प्रमाण पत्र: आधार कार्ड/बिजली का बिल/राशन कार्ड/मतदाता पहचान पत्र/ड्राइविंग लाइसेंस के साथ बच्चें का जन्म प्रमाण पत्र (नगर निकाय का प्रमाण पत्र/अस्पताल का कार्ड/ए.एन.एम.या आंगनबाड़ी का कार्ड/कचहरी से बना शपथ पत्र(एफिडेविट)(कोई एक)। विस्तृत जानकारी हेतु गरियाबंद जिले की वेबसाइट पर देखी जा सकती है।

संपूर्ण प्रक्रिया के सफल संपादन हेतु समस्त जनपद पंचायतों तथा नगरीय निकायों को पात्र आवेदकों आवश्यक वांछित प्रमाण पत्र नियमानुसार प्रदाय किये जाने हेतु उक्ताशय की सूचना दी गई है तथा विकासखंड स्तर पर विकासखंड शिक्षा अधिकारियों को विकासखंड स्तर पर नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।

Back to top button