ऑपरेशन क्लीन साइबर को सफलता,मैट्रिमोनियल साइट के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला गिरोह का पर्दाफाश

सुंदर महिलाओं की तस्वीरें दिखाकर शादी का प्रस्ताव देकर धोखाधड़ी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

ब्युरो चीफ : विपुल मिश्रा

  • ऑनलाइन एवं अखबार के माध्यम से शादी के विज्ञापन देने वालों को गिरोह करता था टारगेट
  • बिलासपुर में रहकर अलग-अलग जगहों से गिरोह देता था वारदात को अंजाम
  • 3 महिला सहित पांच आरोपी गिरफ्तार
  • गिरोह रिवाज और इंडियन कल्चर मैंट्रीमोनियल साइट के नाम से चलाते थे मैरिज सेंटर
  • फर्जी सीम और बैंक खाते का उपयोग कर गिरोह देते थे घटना को अंजाम
  • ऑनलाइन फ़ोटो अपलोड कर लोगो को वही फ़ोटो दिखाकर देते थे झांसा
  • फर्जी फ़ोटो दिखाकर फोन में खुद ही बात कर करते थे ग्राहकों को प्रभावित
  • निजी समस्या ,दुर्घटना बताकर प्रभावित कर झांसे में लेकर मांगते थे पैसे
  • छ0ग0 के अलावा अन्य राज्यों के लोगों से भी करते थे सम्पर्क सभी लोगो से, की जा रही जांच

जप्ती रकम

आरोपीयों से ठगी की रकम कुल 55000रू नगद , 01 नग लेपटाप, 01 नग सीपीयू, 10 नग रजिस्टर, 13
नग मोबाईल बैंक पासबुक एवम atm किया गया जप्त।

आरोपी का नाम पता:-

मनीष उर्फ मालिकराम, अजय कुमार साहू,संगीता यादव,रोशनी मानिकपुरी, पूजा कोरी..

जानिए पूरा मामला 

मामले का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है आवेदक मिर्जा असीम बेग पिता स्वं इस्ताईल बेग उम्र 72 साल सा0 मंझवापारा जरहाभाठा लिखित आवेदन पेश किया कि अखबार के विज्ञापन के माध्यम से मेरिज ब्यूरो से सम्पर्क कर बात शुरु हुई जो रजिस्ट्रेशन के नाम पर 8500 रू लेकर एक महिला से बात कराया गया जो खुद को अजू यादव होना बताई जो फोन कर लिव इन रिलेशन पर रहने की बात को लेकर अपने रिस्तेदारेा के बिमारी का बहाना बनाकर कुल 120,500/- (एक लाख बीस हजार पांच सौ रूपये) ठगी किया गया है। की रिपोर्ट पर अपराध पंजीबद्व कर विवेचना कार्यवाही में लिया गया।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बिलासपुर दीपक झा द्वारा ठगी के अपराध पर अंकुश लगाने निदेर्षित किया गया था। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर उमेश कश्यप एवं नगर पुलिस अधीक्षक मजू लता बाज के मार्गदर्षन में थाना प्रभारी सनिप रात्रे के द्वारा प्रकरण के आरोपीयों के पतासाजी हेतु तत्काल साइबर सेल व थाने से टीम बनाकर रवाना किया गया।

प्रकरण में लोगों से पूछताछ एवं तकनीकि साक्ष्य के माध्यम से रिवाज मैरिज ब्यूरो के संचालक मनीष उर्फ मालिकराम को हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर अपने साथी अजय साहू,संगीता यादव, पूजा कोरी, रोशनी मानिकपुरी, मिलकर रजिस्ट्रेशन के लिए असिम बेग को 8500 रू का रजि0 काउन्सलिग फिस बोलकर जमा करा लिए और पूजा यादव अपने आप को अंजू बताकर बातों में फसाकर मामा बिमार हो गये,जबलपुर आ गये बोलकर अलग-अलग बहाने परेशानी बताकर प्रार्थी से अलग-अलग किस्तो में रकम की ठगी करना बताये आरोपीयों के कब्जे से घटना में प्रयुक्त मोबाईल, सिम, सीपीयू, लेपटाप, रजि, एवं नगदी रकम 55000 रू को पृथक-पृथक आरोपीयों से जप्त कर कब्जा पुलिस लिया गया।

बुजूर्ग व्यक्ति एवं रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी को अपने जाल में फसाकर करते थे ठगी 

एवं आरोपीयों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा जाता है। पूछताछ पर पता चला कि आरोपीयों के द्वारा बुजूर्ग व्यक्ति एवं रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी को अपने जाल में फसाकर रकम की ठगी करते थे। दस्तावेज अवलोकन पर कई बुजुर्ग व्यक्ति के नाम मिले है जिसकी जांच की जा रही है। प्रकरण में विवेचना जारी है।

उपरोक्त कार्यवाही में-निरी0 शनिप रात्रे, निरी कलीम खान, निरी0 प्रदीप आर्या, उनि0 प्रभाकर तिवारी उनि मनोज पटेल, उनि मनोज नायक(साइबर सेल), उनि सागर पाठक, सउनि अवधेश सिंग, आर0 1148 सरफराज खान, आर0 1236 विकास यादव, म0आर0 आशा नेताम आरक्षक ईश्वरी कश्यप ,शंकुतला साहू (साइबर सेल), आर0 1404 तदबीर सिग, )की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button