छत्तीसगढ़

ओ.पी.जे.यू. में टेक-फेस्ट 2018 संपन्न

ज्ञातव्य हो की 21 फरवरी से 23 फरवरी तक चले तीन-दिवसीय तकनीकी महोत्सव का शुभारंभ युवाओं की भारी भीड़ और उत्साह के बीच 21 फरवरी को हुआ

रायगढ़. ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी, रायगढ़ मे आयोजित तीन-दिवसीय राष्ट्रीय स्तर का तकनीकी महोत्सव टेक्नोरोलिक्स-18, 27 फरवरी को 39.85 लाख रुपये की छात्रवृत्ति और दो लाख रूपये के पुरस्कार वितरण के साथ सम्पन्न हुआ। तीन दिनो तक चले टेक्नोरोलिक्स की 20 प्रतियोगिताओ मे विभिन्न महाविद्यालयों के लगभग 500 छात्रों ने हिस्सा लेकर अपनी ज्ञान और प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

एक ओर जहां टेक लैब, जंक यार्ड एवं टेक-डॉक्स आदि तकनीकी प्रतियोगताओं मे छात्रों ने अपने तकनीकी कौशल का लोहा मनवाया, वही नुक्कड़ नाटक और शो-केश मे अपनी सोच और वैयक्तिक प्रतिभा का प्रदर्शन किया।फैशन शो एवं ग्रांड-ए-रोलिक्स मे छात्रों ने अपने नृत्य और संगीत से सभी दर्शकों को अभिभूत किया तथा रोडीज़ मे साहस और चतुराई से सभी दर्शकों का दिल जीत लिया।

23 फरवरी की शाम को टेक्नोरोलिक्स; के समापन समारोह का आयोजन किया गया,जिसमे स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग के डीन डॉ के. के. मेहता ने अतिथियों का स्वागत करते हुए टेक्नोरोलिक्स 2018 के विशेष आकर्षणों के साथ ही साथ इस दौरान छात्रों द्वारा किए जाने वाले प्रयासो की सराहना की तथा निरंतर ऊंचाई चढ़ते कार्यक्रम के बारे मे अपने विचार सभी से साझा किए।

यूनिवर्सिटी के कुलसचिव डॉ आर. डी. पाटीदार ने कहा की टेक्नोरोलिक्स मे छात्रों की सहभागिता साल दर साल बहुत बढ़ी है और इसमे होने वाले इवेंट्स भी सामयिक आवश्यकताओं के अनुरूप डिजाइन किए गए हैं, यही कारण है की दिन प्रतिदिन इसका महत्व बढ़ता ही जा रहा है। समापन समारोह के मुख्य अतिथि डॉ अंजनी शुक्ला (चेयरमैन- छत्तीसगढ़ प्राइवेट यूनिवर्सिटी रेगुलेटरी कौंसिल) ने आयोजकों को बधाई देते हुए कहा की हार्डवर्क का कोई भी विकल्प नहीं होता और इस तरह के टेक-फ़ेस्ट छात्रों को कड़ी परिश्रम करने की प्रेरणा देते हैं और हैंड्स ऑन ट्रेनिंगसे उन्हें एक कुशल प्रोफेसनल बनाते हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि श्रम कभी संचित नहीं होता अतः जरूरी है की इसका सदुपयोग कर सफलता प्राप्त करें l कार्यक्रम के दौरान टेक्नोरोलिक्स की प्रतियोगिताओं के पुरस्कार के साथ ही साथ, वार्षिक अकादमिक पुरस्कार, खेल पुरस्कार एवं यूनिवर्सिटी की ओर से छात्रों को प्रतिवर्ष दी जाने वाली छात्रवृत्तियोँ का वितरण किया गया। इस वर्ष यूनिवर्सिटी द्वारा 140 छात्रों को कुल 39.85 लाख रुपए की छात्रवृत्तिया- एंट्री लेवेल स्कालरशिप तथा मेरिट-कम- मीन्स स्कालरशिप प्रदान की गयी।

इन छात्रवृत्तियों का उद्देश्य अध्ययन मे श्रेष्ठ छात्रों को प्रोत्साहित करना तथा पढ़ाई मे अच्छे किन्तु आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को सहायता प्रदान करना है। प्रबंधन की ओर से सभी ब्रांचेज़ के, हर वर्ष के टॉपर छात्रों को पुरस्कार राशि प्रमाण पत्र सहित प्रदान की गयी और साथ ही साथ पूरे सत्र मे छात्रों द्वारा किए गए अच्छे कार्यो तथा उनकी उपलब्धियों को भी पुरष्कृत किया गया। पुरस्कार वितरण के पश्चात छात्रों द्वारा नृत्य-संगीत की रंगारंग प्रस्तुति दी गयी एवं टेक्नोरोलिक्स की छात्र संयोजक ट्विंकल रोहरा द्वारा टेक्नोरोलिक्स के सफल आयोजन मे सहयोग प्रदान करने के लिए सभी का धन्यवाद ज्ञापन किया गया।

ज्ञातव्य हो की 21 फरवरी से 23 फरवरी तक चले तीन-दिवसीय तकनीकी महोत्सव का शुभारंभ युवाओं की भारी भीड़ और उत्साह के बीच 21 फरवरी को हुआ। कार्यक्रम का उदघाटन जेपीएल, तमनार के ईवीपी एंड प्रोजेक्ट हेड श्री गौतम चंद्रा ने ओपीजेयू के चान्सेलर डॉ बी. के. स्थापक, कुलपति डॉ प्रभु अग्रवाल, कुलसचिव डॉ आर. डी. पाटीदार, स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग के डीन डॉ के. के. मेहता की उपस्थिती मे किया।

उदघाटन समारोह के दौरान डॉ पाटीदार ने अतिथियों का स्वागत करते हुए तकनीकी महोत्सव टेक्नोरोलिक्स- के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला और छात्रों से कहा की ज़िम्मेदारी लेना और निभाना किसी भी व्यक्ति के न केवल प्रोफेशनल जीवन मे बल्कि वैयक्तिक जीवन के लिए भी जरूरी होता है और यह आयोजन छात्रों को ज़िम्मेदारी के महत्व का एहसास कराता है।

इस दौरान अपने संबोधन में यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ प्रभु अग्रवाल ने सभी को कार्यक्रम के सफल आयोजन की बधाई देते हुए कहा की टेक्नोरोलिक्स यूनिवर्सिटी के विज़न को पूरा करने मे एक सहायक के रूप मे है क्योंकि इसके आयोजन से सभी छात्रों को इक्स्पपीरिएनसियल लर्निंग होती है जिसके प्रति हम कटिबद्ध हैं। उन्होंने छात्रों के द्वारा बनाए गए टेक्निकल मॉडेल्स की तारीफ करते हुए कहा की इस इनोवेशन की प्रक्रिया को सतत बनाए रखें जिससे आपके ज्ञान का उपयोग सामाजिक हित मे हो सके।

मुख्य अतिथि श्री गौतम चंद्रा ने टेक्नोरोलिक्स-\ के आयोजन के लिए बधाई देते हुए कहा की हर इंसान को कुछ वक़्त अपने लिए निकालना चाहिए और अपने अंदर की प्रतिभा को पहचानने का प्रयत्न करना चाहिए। हर व्यक्ति के अंदर एक विशेष गुण होता होता है जो उसे सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति बनाता है। यह तकनीकी महोत्सव आपके अंदर के सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकालकर दुनिया के सामने लाने का एक अच्छा अवसर साबित हो सकता है। यही वह समय है जब आप अपने ज्ञान का उपयोग समझ सकते हैं इसलिए इसमे पूरे मनोयोग से प्रतिभागी बने।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *