विपक्षी दलों का प्रदर्शन, एनडीए के सांसद बोले-कार्रवाई ठप तो नहीं लेंगे वेतन भत्ता

आजाद बोले - उन्हें वेतन भत्ता लेने की जरूरत भी नहीं है, उनके पास हजारों करोड़ों रुपए

नई दिल्ली: संसद में गुरुवार को विपक्षी एकता एक नए रूप में देखने को मिली। सभी विपक्षी पार्टियों ने संसद परिसर में गांधी प्रतिमा के सामने मानव श्रृंखला बनाकर सरकार sc/st एक्ट, महंगाई, बैंक घोटाले के खिलाफ जबरदस्त प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में सोनिया गांधी राहुल गांधी समेत तमाम विपक्षी पार्टियों के नेता मौजूद थे। वहीं एनडीए दलों ने विपक्ष के प्रदर्शन पर सवाल उठाए हैं। एनडीए दलों का कहना है कि जब हंगामें की वजह से संसद चली ही तो वेतन भत्ता लेने की बात भी बेइमानी है। सांसदों की नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि वे संसद की कार्यवाही चलने दें। एनडीए के इस दांव से विपक्ष पर सदन की कार्यवाही ठप रहने के दौरान वेतन भत्ता नहीं लेने का दबाव बढ़ गया है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि प्रदर्शन में 17 पार्टी में शामिल है और यह दिखाता है कि विपक्षी एकता कितनी मजबूत है। उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शन में वो पार्टियां भी शामिल है, जो कभी एनडीए का हिस्सा हुआ करती थी, लेकिन अब सरकार के खिलाफ हमारे साथ एकजुट हैं। आजाद ने कहा कि एनडीए के सांसदों के वेतन भत्ता नहीं लेने के ऐलान पर कहा कि उन्हें वेतन भत्ता लेने की जरूरत भी नहीं है, क्योंकि उनके पास हजारों करोड़ों रुपए हैं। वहीं समाजवादी पार्टी के राज्यसभा से सांसद जया बच्चन ने कहा कि इस प्रदर्शन का मकसद लोगों का यह भ्रम दूर करना है कि संसद विपक्ष की वजह से नहीं चल रही है जबकि सच्चाई यह है कि संसद नहीं चलने के लिए सरकार दोषी है।

Back to top button