पिच पर छोड़ी घास, ताकि गेंद और बल्ले के बीच बराबरी का मुकाबला हो : डैमियन हॉग

पिछले तीन सत्रों में यहां डे-नाइट का टेस्ट मैच खेला गया था जिसमें पहला टेस्ट तीन दिन तक चला था

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मैच की मेजबानी करने वाले एडिलेड के क्यूरेटर डैमियन हॉग ने कहा है कि उन्होंने पिच पर ‘थोड़ी घास’ रहने दी है.

पिछले तीन सत्रों में यहां डे-नाइट का टेस्ट मैच खेला गया था जिसमें पहला टेस्ट तीन दिन तक चला था, दूसरा चार दिन तक और तीसरा टेस्ट पांचवें दिन के पहले सत्र तक चला था.

हॉग ने कहा है कि डे-नाइट के टेस्ट में गुलाबी गेंद की चमक बरकरार रखने के लिए घास की अतिरिक्त परत को छोड़ा गया है और उन्हें नहीं लगता कि गुरूवार से लाल गेंद से शुरू हो रहे टेस्ट मैच के लिए पिच में कोई बदलाव करना चाहिए.

हॉग ने द वीकेंड ऑस्ट्रेलियन से कहा, ‘‘हम कुछ अलग नहीं कर रहे. हमारी तैयारी उसी तरह (गुलाबी गेंद) की है. सिर्फ यह बदलाव होने वाला है कि हम कवर को जल्दी हटा देंगे और खेल जल्दी शुरू होगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ शील्ड स्तर के क्रिकेट मैच में भी हम लाल गेंद और गुलाबी गेंद से क्रिकेट के लिए एक ही तरह से पिच तैयारी करते हैं. यह जरूरी है कि पिच पर थोड़ी घास छोड़ी जाए ताकि गेंद और बल्ले के बीच बराबरी का मुकाबला हो सके.

 

Back to top button