पोषण अभियान के तहत थीम आधारित गतिविधियाँ आयोजित कराने के मिले आदेश

फरवरी 2020 तक का पोषण कैलेंडर किया गया जारी

सामुदायिक व्यवहार परिवर्तन पर दिया जायेगा ज़ोर
राष्ट्रीय पोषण कैलेंडर में 25 मुख्य गतिविधियों को किया गया शामिल

नवादा : पोषण में सुधार के लिए सरकार द्वारा पोषण अभियान चलाया जा रहा है. पोषण के प्रति आम जागरूकता बढ़ाने के लिए अभियान के अंतर्गत संचालित की जाने वाली गतिविधियों को सूचीबद्ध रूप से संचालित किये जाने के लिए फ़रवरी 2020 तक का थीम आधारित पोषण कैलेंडर जारी किया गया है.

इसके विषय में सचिव महिला एवं बाल विकास मंत्रालय राकेश श्रीवास्तव ने पत्र के माध्यम से विस्तार से जानकारी दी है.
पत्र के माध्यम से बताया गया है कि पोषण अभियान का मुख्य उद्देश्य देश से कुपोषण को खत्म करना है. इसके लिए 0 से 6 वर्ष तक के बच्चों में वर्तमान राष्ट्रीय कुपोषण की दर 38.4 प्रतिशत में कमी लाकर वर्ष 2022 तक 25 प्रतिशत करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

जागरूकता एवं व्यवहार परिवर्तन के जरिये सामुदायिक स्तर पर पोषण में सुधार संभव है. इसलिए ‘जन आन्दोलन’ को पोषण अभियान का प्रमुख हिस्सा बनाते हुए देश भर में प्रत्येक महीने पोषण कैलेंडर के मुताबिक संबंधित विभागों के सहयोग से पोषण गतिविधियों को आयोजित कराने का फ़ैसला लिया गया है. निदेशक आईसीडीएस ने राकेश श्रीवास्तव द्वारा जारी किये गए पत्र को अग्रसारित कर इस दौरान होने वाली पोषण गतिविधियों की जानकारी दी है.

22 से 27 अप्रैल मनेगा टीकाकरण सप्ताह : पोषण कैलेंडर के अनुसार 22 से 27 अप्रैल टीकाकरण सप्ताह के रूप में मनाया जाएगा. 15 मई को अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस पर सुपोषित दिवस, 1 जून को भोजन की विविधता पर किशोर एवं किशोरियों को सलाह देते हुए शपथ दिवस, 10 जून को प्रथम प्रवेश दिवस(आँगनवाड़ी केन्द्रों में प्रवेश), 1 से 7 अगस्त विश्व स्तनपान दिवस, 1 से 7 सितम्बर एनीमिया सप्ताह, 2 अक्टूबर स्वच्छता दिवस, 21 अक्टूबर आयोडीन डेफिशियेंसी डिसऑर्डर डे, 14 से 19 नवम्बर आईसीडीएस सप्ताह एवं दिसम्बर प्रथम सप्ताह में अनुपूरक आहार पर आधारित गतिविधियाँ आयोजित की जाएगी.
थीम आधारित गतिविधियाँ कराने पर होगा जोर: प्रत्येक माह थीम आधारित गतिविधियाँ कराने का निर्देश जारी किया गया है.

बाल्यावस्था में बेहतर देखभाल मई माह का थीम होगा जिसमें पंचायत बैठक, स्कूल आधारित गतिविधियाँ एवं पोषण रैली जैसी अन्य कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे. बच्चों, किशोरों एवं महिलाओं में एनीमिया की रोकथाम जून माह का थीम होगा जिसमें विभिन्न पोषण जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे. इसमें पोषण मेला, पोषण पर कार्यशाला, नुक्कड़ नाटक एवं एनीमिया कैंप जैसे कुछ प्रमुख गतिविधि शामिल होंगे. डायरिया प्रबंधन जुलाई माह का थीम होगा. अगस्त महीने का सर्वाधिक स्तनपान थीम होगा. सितम्बर माह पिछले वर्ष की तरह पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा.

अक्टूबर माह में स्वच्छता, साफ़-सफाई एवं शुद्ध पेय जल सेवन पर जोर दिया जाएगा. नवम्बर माह में बच्चों में विकास निरिक्षण एवं इसमें सुधार पर बल दिया जाएगा. दिसम्बर माह में बच्चों को 6 माह के बाद दी जाने वाली अनुपूरक आहार पर विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे. अगले वर्ष( 2020) के जनवरी में सम्पूर्ण टीकाकरण एवं विटामिन ए अनुपूरण पर सामुदायिक जागरूकता बढाई जाएगी एवं फरवरी माह में सूक्ष्म पोषक तत्वों की आवश्यकता पर बल देते हुए विभिन्न सामुदायिक गतिविधियों के जरिये जागरूकता फैलाई जाएगी.

Back to top button