शासकीय प्राथमिक शाला कोसमर्रा में मातृ-पितृ पूजन दिवस का आयोजन संपन्न

- रवि सेन

बागबाहरा: भारतीय संस्कृति में यह स्थापित मान्यता है कि जिन बच्चों में माता पिता और गुरु जनों को प्रणाम एवं उऩकी सेवा करने की लालसा हमेशा बनी रहती है, उन बच्चों की आयु, विद्या, यश और बल चारों बढ़ते हैं।

ऐसे ही बच्चों को मातृ-पितृ पूजन दिवस के दिन, बागबाहरा ब्लॉक के ग्राम कोसमर्रा के स्कूल में देखने को मिला, जहाँ बच्चों को थाली में पुष्प सजाकर तथा दीप प्रज्ज्वलित कर माता-पिता की आरती करते देखा गया।इस मौके पर बच्चों ने अपने माता-पिता एवं गुरु में ईश्वरीय भाव जगाते हुए उनकी सेवा करने का दृढ़ संकल्प लिया।

बागबाहरा ब्लॉक के ग्राम कोसमर्रा में भारतीय संस्कृति का अनुसरण करते हुए शासकीय प्राथमिक शाला एवं पूर्व माध्यमिक शाला के संयुक्त तत्वाधान में 14 फरवरी गुरुवार को मातृ-पितृ पूजन दिवस बड़े ही हर्षोल्लास तथा धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों ने पहले मां सरस्वती एवं भारत माता के चित्र के समक्ष पुष्प अर्पित व दीप प्रज्ज्वलित कर वैदिक मंत्रों के साथ पूजा-अर्चना की।

कार्यक्रम में विद्यालय के छात्रों ने थाली में सुंदर पुष्प माला, अक्षत, धूप-दीप आदि पूजा की सामग्री लेकर माता पिता की पूजा अर्चना की और उनकी सेवा करने तथा उनकी आज्ञा मानने का संकल्प लिया। भावपूर्ण मातृपितृ पूजन को देखकर उपस्थित अतिथि एवं शिक्षक भावुक हो उठे सभी की आंखें भर आईं, ग्राम कोसमर्रा स्कूल में 14 फरवरी को मातृ पितृ पूजन दिवस मानते तृतीय वर्ष है।

इस अवसर पर प्राथमिक व माध्यमिक शाला की छात्राओं ने छत्तीसगढ़ की संस्कृति से लबरेज़ मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया। छात्र जयंत अवसरिया एवं छात्रा चहक हरपाल का आकर्षक नृत्य तथा स्वाति तिवारी द्वारा प्रस्तुत गीत सबका मन मोह लिया। कार्यक्रम के अन्त में सभी ने पाश्चात्य संस्कृति को भूलकर भारतीय संस्कृति के पालन का संकल्प लिया।

Back to top button