मुंगेली उप जेल में विधिक साक्षरता शिविर का हुआ आयोजन

-मनीष शर्मा

मुंगेली।

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली छग राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा आज जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा उप जेल मुंगेली में विधिक सेवा सप्ताह के समापन दिवस पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट शैलेश शर्मा एवं व्यवहार न्यायाधीश अमित मात्रे द्वारा विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन कर बंदियों का चिकित्सकीय परीक्षण कराया गया।

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट/सचिव जिला सेवा प्राधिकरण श्री शर्मा ने उप जेल में निरूद्ध बंदियों को उनके विधिक अधिकारों एवं जानकारी से अवगत कराते हुए बताया कि यदि कोई व्यक्ति जिसका मामला न्यायालय में लंबित है और प्रकरण की पैरवी कराने में असमर्थ है तो जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के समक्ष आवेदन प्रस्तुत करने पर संबंधित न्यायालय के समक्ष निवेदन करने पर उन्हे निःशुल्क विधिक सहायता योजना के अंतर्गत पैनल अधिवक्ता नियुक्त कर प्रदान किया जायेगा।

जिसका संपूर्ण व्यय प्राधिकरण द्वारा वहन किया जायेगा। उन्होने बताया कि यदि कोई व्यक्ति जमानती अपराध में निरूद्ध है या जिसकी जमानत हो चुकी है और पट्टा प्रस्तुत करने में असमर्थ है ऐसे व्यक्ति भी न्यायालय के समक्ष प्राधिकरण के माध्यम से पुनः संशोधित जमानत आवेदन मूचलके पर रिहा किये जाने बाबत प्रस्तुत कर सकते है तथा न्यायालय अपराध की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए ऐसे आवेदन पर पुनः विचार कर सकती है।

इस अवसर पर जेल चिकित्सा अधिकारी रामजी शर्मा ने जेल में निरूद्ध बंदियों को विधिक साक्षरता शिविर में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के पूछे जाने पर निरूद्ध बंदियों का परीक्षण कर उपचार किया तथा दवाईयां दी गई। कार्यक्रम में प्रभारी जेल अधीक्षक जे.एल. पुरैना एवं जेल के समस्त स्टॉफ उपस्थित थे।

1
Back to top button