24 कुंडीय शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ का आयोजन

रवि सेन

बागबाहरा।

गायत्री परिवार बागबाहरा व तेंदुकोना के सयुंक्त तत्वाधान में जिला स्तरीय 24 कुंडीय शक्ति संवर्धन गायत्री महायज्ञ का आयोजन ग्राम तेंदुकोना में किया जा रहा है। इस महायज्ञ में अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार से पधारे ऋषि पुत्रो के द्वारा 24 कुंडीय शक्ति संवर्धन महायज्ञ, पुंसवन ,अन्न प्राशन, मुंडन, विद्यारंभ दीक्षा, विवाह संस्कार निःशुल्क सम्पन्न होंगे।

तेंदुकोना में 15 से 18 जनवरी तक होने वाले इस महायज्ञ में नगर सहित आसपास के गांवों में प्रचार प्रसार और पंपलेट के साथ घर-घर पहुंचकर गायत्री परिवार के लोग गायत्री महायज्ञ में आने का निमंत्रण दे रहे है। इस महायज्ञ को भव्यता बढ़ाने के लिए रूपरेखा तैयार की गई।

इसके साथ ही भव्य पंडाल, गुरुदेव जी की सजीव चित्रण व भोजन शाला की तैयारी अंतिम चरणों मे है। 15 जनवरी से आरम्भ हो रहे 24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ को मूर्त रूप देने में गायत्री परिवार बागबाहरा व तेंदुकोना के समन्वयक महेंद्र ठाकुर, गजानन्द ठाकुर, सीआर यादव, अशोक कौशिक, हरद्वारी लाल अग्रवाल, दयालु निर्मलकर, सुखन साहू, मानसिंग दीवान, आशीष शुक्ला, संजय साहू, चमन दास बैरागी सहित बड़ी संख्या में गायत्री परिवार के लोग जूट हुए हैं।

16, 17 को होगा सामूहिक जप, ध्यान और योग- इस 24 कुंडीय गायत्री महायज्ञ में 16 जनवरी व 17 जनवरी गुरुवार को सामूहिक जप, ध्यान, प्रज्ञा योग, व्यायाम, प्राणायाम, गायत्री महायज्ञ और विभिन्न संस्कार, कार्यकर्ता गोष्ठी एवं युवा सम्मेलन, युग संगीत प्रवचन, संकल्प दीप महायज्ञ, 18 जनवरी शुक्रवार को सामूहिक जप, ध्यान, विभिन्न प्रकार के पूर्णाहुति कार्यकर्ताओं की सराहना देव् विदाई एवं टोली की विदाई है।

पहले दिन निकाली जाएगी कलश यात्रा- यज्ञ के पहले दिन भव्य मंगल कलश यात्रा निकाली जाएगी। इस यज्ञ को शांतिकुंज हरिद्वार के तपस्वी विद्वानों द्वारा आयोजित किया जाएगा जिसमें नगर सहित जिले के लोगों का सहयोग रहेगा। साथ ही साथ सामूहिक जप, ध्यान, प्रज्ञायोग, व्यायाम, देवपूजन, गायत्री महायज्ञ, कार्यकर्ता गोष्ठी, युवा सम्मेलन, संगीत एवं प्रवचन एवं संकल्प दीप महायज्ञ होंगे।

आकर्षण का केंद्र रहेगा यज्ञ वेदी व प्रदर्शनी- इस महायज्ञ में 24 कुंडीय यज्ञ वेदी को 4 हिस्से में बांटा गया है, प्रत्येक हिस्से में 6 यज्ञ वेदी बनाया गया है, साथ ही मध्य में सर्वतोभद्र की स्थापना की जाएगी। इसके साथ ही एक बड़े पंडाल में परम पूज्य गुरुदेव की सजीव चित्रण की प्रदर्शनी लगाई जाएगी।

1
Back to top button