पेंड्रा विकासखंड के सुदूर अंचल ग्राम बम्हनी में जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर का आयोजन

कलेक्टर नम्रता गांधी के निर्देशानुसार आज पेंड्रा विकासखंड के सुदूर अंचल ग्राम बम्हनी में सभी जिला स्तरीय अधिकारियों की उपस्थिति में जन समस्या निवारण शिविर आयोजित किया गया।

संवाददाता :- सुमित जालान

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही :- जिले की कलेक्टर नम्रता गांधी के निर्देशानुसार आज पेंड्रा विकासखंड के सुदूर अंचल ग्राम बम्हनी में सभी जिला स्तरीय अधिकारियों की उपस्थिति में जन समस्या निवारण शिविर आयोजित किया गया। ग्राम बम्हनी में आयोजित शिविर में कुल 234 आवेदन प्राप्त हुए हैं जिनमें से 148 आवेदन शिविर स्थल पर ही निराकृत किए गए है और शेष आवेदनों को संबंधित विभागों को निश्चित समय सीमा में निराकरण किए जाने के निर्देश दिए गए हैं । इसके साथ ही शिविर में उपस्थित विभिन्न जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा उनके विभाग में संचालित हितग्राही मूलक योजनाओं की जानकारी ग्रामीणों को विस्तार से दी गई है।

जनसमस्या निवारण शिविर के लिए विभिन्न विभागों से संबंधित विभिन्न आवेदन प्राप्त हुए हैं। इनमें खाद्य शाखा के लिए राशन कार्ड, गैस सिलेंडर के आवेदन प्राप्त हुए हैं। राजस्व विभाग अंतर्गत नामांतरण, बंटवारा, सीमांकन, फवती, रिकॉर्ड दुरुस्ती, ऋण पुस्तिका, विवादित भूमि का बंटवारा इत्यादि आवेदन प्राप्त हुए हैं। इसी प्रकार लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग अंतर्गत हैंडपंप के आवेदन, विद्युत विभाग अंतर्गत विद्युत पोल, नया ट्रांसफार्मर इत्यादि के आवेदन, समाज कल्याण विभाग अंतर्गत विधवा पेंशन, वृद्धावस्था पेंशन इत्यादि, मनरेगा अंतर्गत जॉब कार्ड, भूमि सुधार, मनरेगा मजदूरी इत्यादि, महिला एवं बाल विकास विभाग अंतर्गत शादी की सहायता राशि, पंचायत विभाग अंतर्गत अहाता निर्माण, पचरी निर्माण, किचन शेड निर्माण, सामुदायिक भवन निर्माण इत्यादि सहित अन्य विभिन्न आवेदन प्राप्त हुए है।

शिविर में घाटबहरा के सात और मुर मुर के सात हितग्राहियों का पेंशन स्वीकृत किया गया। हैंडपंप की समस्या हेतु प्राप्त आवेदन का जल जीवन मिशन अंतर्गत टेप नल कनेक्शन का लाभ दिला कर निराकरण किया गया। मुर-मुर के डोंगरी मोहल्ला मैं विद्युत की समस्या के आवेदन पर विद्युत विभाग और क्रेडा विभाग को संयुक्त सर्वे करने हेतु निर्देशित किया गया।

मनरेगा

शिविर में मनरेगा अंतर्गत प्राप्त आवेदन पर घाटबहरा मैं किचन सेड निर्माण हेतु प्राक्कलन तैयार कर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। इस प्रकार शिविर स्थल पर ही कुल 148 आवेदनों का निराकरण किया गया है। इसके साथ ही वन अधिकार पट्टा के शत-प्रतिशत निराकरण हेतु तहसीलदार, पटवारी, सचिव और वनरक्षक को वास्तविक स्थल का निरीक्षण करते हुए पात्र लोगों को पट्टा प्रदान किए जाने की कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए है।

कलेक्टर ने वर्तमान में कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के लिए शिविर में उपस्थित सभी लोगों से अपील की है कि वे कोविड-19 वायरस से संबंधित केंद्र और राज्य शासन द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पूरी तरह से पालन करें जिससे कि कोरोना महामारी के संक्रमण से बचा जा सके। उन्होंने सभी लोगों से सार्वजनिक जगहों पर मास्क इत्यादि का उपयोग करने की अपील की है। शिविर में कलेक्टर द्वारा खेती किसानी के लिए जैविक खाद का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने कहा गया है। इसके साथ ही पड़त भूमि पर हल्दी, अदरक, जिमीकंद शकरकंद मसाला की खेती, फूलों की खेती इत्यादि का रकबा बढ़ाने के बारे में जानकारी दी गई।

उनके द्वारा गौठानों में महिला स्व सहायता समूह के लिए आजीविका गतिविधि में वृद्धि करने हेतु सब्जी भाजी, वर्मी खाद, नाडेप खाद, चाक निर्माण, फिनाइल निर्माण, गोबर से दिया निर्माण इत्यादि विभिन्न गतिविधियों से जोड़कर आत्मनिर्भर होने हेतु प्रेरित किया गया। जिला स्तरीय शिविर मे जिला पंचायत उपाध्यक्ष हेमकुवर अजीत श्याम सहित विभिन्न जनप्रतिनिधि,परियोजना निदेशक  आर के खूटे , मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.देवेंद्र पैकरा, जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी भूपेंद्र सोनवानी सहित विभिन्न जिला स्तरीय अधिकारीगण और ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button