‘बेटी बचाओ~बेटी पढ़ाओ‘ विषय पर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

रोशन सोनी

अम्बिकापुर।

भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के फील्ड आउटरीच ब्यूरों द्वारा 26 जनवरी को अम्बिकापुर जनपद अंतर्गत आने वाले शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय करजी  में बेटी बचाओ “बेटी पढाओ विषय पर विशेष जनजागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इस कार्यक्रम में बेटी बचाओ~बेटी बचाओ विषय पर रंगोली, चित्रकला, मेहंदी, भाषण एवं प्रश्नोत्तरी आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। जिसमे विद्यार्थियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया तथा चित्रकला व रंगोली के द्वारा बेटियों को पढ़ाने एवं समाज में समानता का अधिकार दिलाने का सन्देश दिया गया। मेहंदी में बबली, रंगोली में ईशा कुशवाहा एवं चित्रकला में पुष्पांजलि ने प्रथम स्थान प्राप्त किया।

विजेता प्रतिभागियों को मुख्य अतिथि जिला पंचायत सदस्य राकेश गुप्ता द्वारा पुरस्कृत किया गया।मुख्य अतिथि राकेश गुप्ता ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये कहा कि देश की आधी आबादी महिलाओं की है। अतएव उनका मान-सम्मान एवं सशक्तिकरण राष्ट्रीय विकास के लिए आवश्यक है।

उन्होंने सुकन्या समृद्धि योजना की शुरूवात को महत्वपूर्ण बताते हुये कहा कि इस योजना के माध्यम से बालिकाओं का सशक्तिकरण हो रहा है तथा वे पढ़ाई-लिखाई सहित अन्य गतिविधियों में उत्साहपूर्वक भाग ले रही हैं।

फील्ड आउटरीच ब्यूरो अंबिकापुर के प्रभारी हिमांशु सोनी द्वारा कार्यक्रम में उपस्थित छात्राओं एवं ग्रामीणों को बेटी बचाओ – बेटी पढाओ अभियान एवं साथ ही बेटियों के लिए चलाये जा रहे केन्द्रीय सरकार की महत्वपूर्ण योजना सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जानकारी दी गई।

उन्होंने बताया कि इस योजना का शुभारंभ हरियाणा के पानीपत में 22 जनवरी 2015 किया गया। लड़कियों के प्रति लोगों की विचारधारा में सकारात्मक बदलाव लाने के साथ ही यह योजना भारतीय समाज में लड़कियों की महत्ता की ओर भी इंगित करता है।

भारतीय समाज में लड़कियों के प्रति लोगों की मानसिकता में सकारात्मक बदलाव के लिए जागरूकता कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि समाज में महिलाओं को समानता एवं सम्मान दिया जाना आवश्यक है। उन्होंने बताया कि लड़कों के अनुपात में लड़कियों की कम संख्या चिंतनीय है। इसलिये शासन द्वारा बालिकाओं की पढ़ाई एवं महिला सशक्तिकरण तथा भ्रूण हत्या रोकने पर विशेष जोर दिया जा रहा है।

इस कार्यक्रम के दौरान स्कूली विद्यार्थियों द्वारा रैली का आयोजन किया गया। जिसमे बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ बेटी है तो कल है आदि नारे लगाये गये।

सुकन्या समृद्धि योजना की जानकारी

कार्यक्रम के दौरान बालिकाओं के लिए चलाये जा रहे सुकन्या समृद्धि योजना की भी जानकारी देते हुये बताया गया कि बालिकाओं के जीवन के लिए यह योजना एक अच्छी शुरुआत है।

यह बालिकाओं के विकास के लिए अच्छी योजना है, क्योंकि ये वार्षिक आधार पर इस छोटे से निवेश के माध्यम से माता-पिता की परेशानियों को कम करने के साथ ही वर्तमान और भविष्य में जन्म लेने वाली बालिकाओं के जीवन को सुरक्षा प्रदान करती है,जिसमे कोई भी माता-पिता अपने बेटी के जन्म से 10 वर्ष सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट में बेटी के नाम से एक साल में 1 हजार से लेकर 1 लाख पचास हजार रुपए जमा कर सकते हैं।

यह पैसा अकाउंट खुलने के 14 साल तक ही जमा करवाना होगा और यह खाता बेटी के 21 साल की होने पर ही मैच्योर होगा। योजना के नियमों के अंतर्गत बेटी के 18 साल के होने पर आधा पैसा निकलवा सकते हैं। 21 साल के बाद खाता बंद हो जाएगा और पैसा पालक को मिल जाएगा। अगर बेटी की 18 से 21 साल के बीच शादी हो जाती है तो अकांउट उसी वक्त बंद हो जाएगा।

अकाउंट में अगर पेमेंट लेट हुई तो सिर्फ 50 रुपए की पैनल्टी लगाई जाएगी। पोस्ट ऑफिस के अलावा कई सरकारी व निजी बैंक में भी इस योजना के तहत खाता खुलवाया जा सकता है।

कार्यक्रम में के दौरान स्थानीय सरपंच परमेन्द्र कुमार सर्जाल एवं पंचगण, प्राचार्य आर.एल.बैश, व्याख्याता एल.पी.सोनवानी तथा ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

1
Back to top button