छत्तीसगढ़ी संस्कृति और परम्परा के अनुरूप भव्य तरीके से होगा राजिम मेला का आयोजन

धर्मस्व विभाग के सचिव अविनाश चम्पावत ने मेले की तैयारियों के संबंध में ली अधिकारियों की बैठक

हितेश दीक्षित

छुरा/गरियाबंद।

ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थल राजिम में आगामी 19 फरवरी से 4 मार्च तक छत्तीसगढ़ी संस्कृति और परम्परा के अनुरूप भव्य तरीके से राजिम मेला का आयोजन किया जाएगा। इस आयोजन की तैयारियों के संबंध में आज जल संसाधन, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग के सचिव अविनाश चम्पावत ने राजिम सर्किट हाउस में गरियाबंद के अधिकारियों की बैठक ली।

कलेक्टर श्याम धावडे़ द्वारा राजिम मेला में रायपुर, धमतरी और गरियाबंद जिले द्वारा किये जाने वाली व्यवस्थाओं की जानकारी दी गई। बैठक में रायपुर संभाग के कमिश्नर जी.आर.चुरेन्द्र,संस्कृति विभाग के संचालक चंद्रकांत उईके,छत्तीसगढ़ टूरिज्म के मैनेजिंग डायरेक्टर एम.टी.नंदी,पुलिस अधीक्षक एम.आर. आहिरे, अतिरिक्त कलेक्टर के.के. बेहार, वन मण्डलाधिकारी राजेश पाण्डेय, जिला पंचायत सीईओ श्री आर के खुटे और विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक में धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग के सचिव अविनाश चम्पावत ने कहा कि छत्तीसगढ़ी संस्कृति और परम्परा के हिसाब से भव्य राजिम मेले का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नदियों को सुरक्षित रखते हुए इको फ्रेंडली तरीके से मेले की सभी व्यवस्थाएं की जानी चाहिए।

पर्यावरण को क्षति न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। मेले में पालीथिन का उपयोग पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। यह प्रतिबंध सख्ती से लागू करेंगे। धार्मिक, सांस्कृतिक और कला के सभी पहलुओं तथा समाज के हर वर्ग को साथ लेकर इस बार राजिम मेले का आयोजन किया जाएगा।

यह सामूहिक जवाबदेही का कार्य है, अतएव सभी विभाग अपनी-अपनी जिम्मेदारियों का निष्ठा पूर्वक निर्वहन करेंगे। श्री चम्पावत ने मेला स्थल में पेयजल, रोशनी,दाल-भात केन्द्र, कंट्रोल रूम और सहायता केन्द्र की स्थापना के बारे में अधिकारियों से चर्चा कर आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने हेल्थ कैम्प लगाने के निर्देश भी स्वास्थ्य अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने कहा कि शौचालयों की व्यवस्था इस तरह किया जाये, जिससे नदियों को कोई नुकसान न हो और प्रदूषण भी न हो।

चम्पावत ने स्थानीय खेल- कबड्डी और अन्य खेल प्रतियोगिताओं, रामायण प्रतियोगिता तथा रंगोली, चित्रकला आदि के आयोजन के बारे में अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया। उन्होंने मेला स्थल के लिए तैयार किये गये ले-आउट का भी अवलोकन किया।

इसके बाद चम्पावत ने रायपुर संभाग के कमिश्नर जी.आर.चुरेन्द्र, कलेक्टर श्याम धावड़े और अन्य अधिकारियों के साथ मेला स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने वहां स्नान कुंड, लोगों के आने-जाने का मार्ग, शौचालयों की व्यवस्था, पार्किंग, सुरक्षा सहित सभी जरूरी व्यवस्थाओं के बारे में आवश्यक निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये हैं।

छत्तीसगढ़ी संस्कृति और परम्परा के अनुरूप भव्य तरीके से होगा राजिम मेला का आयोजन

1
Back to top button