छत्तीसगढ़

विश्व के सर्वोत्तम संविधानों में से एक हमारा संविधान – एम डी प्रधान

सोनू सेन:

पिथौरा: छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा के तत्वावधान में भारतीय संविधान दिवस की 70 वीं वर्षगांठ के अवसर पर शासकीय मिडिल स्कूल कसहीबाहरा में विविध कार्यक्रम का आयोजन किया गया ।

कार्यक्रम की शुरुआत में विद्यार्थियों के समक्ष संस्था प्रमुख हेमन्त खुटे ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना का वाचन किया ततपश्चात कार्यक्रम के प्रथम सत्र में भारत का संविधान के इतिहास पर निबंध लेखन,भारतीय संविधान पर आधारित क्विज कॉम्पिटिशन एवं संविधान निर्माता पर आधारित चित्रकला का आयोजन किया गया।

द्वितीय सत्र में भारतीय संविधान की प्रस्तावना पर चर्चा व व्याख्या कार्यक्रम के मुख्य वक्ता सेवानिवृत्त प्राचार्य एवं छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा पिथौरा इकाई के अध्यक्ष एम डी प्रधान ने कहा कि विश्व के सर्वोत्तम संविधानों में से एक है हमारा संविधान जो संविधान सभा द्वारा 26 नवम्बर 1949 को पारित हुआ तथा 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया। इसके निर्माण में 2 वर्ष ,11 माह,18 दिन लगे।उन्होंने भारतीय संविधान की संरचना पर विस्तारपूर्वक जानकारी दी।

कार्यक्रम संयोजक एवं छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा के उपाध्यक्ष हेमन्त खुटे ने उद्देशिका की पहली पंक्ति हम भारत के लोग का अर्थ स्पष्ट करते हुए कहा कि संविधान हम सबका है,हम सब भारत के जन गण है,हम ही सब मिलकर भारत के लोग बनते है।

इसलिये यह संविधान और यह देश हम सबका है। संविधान हमें समता, स्वंत्रता,न्याय और बंधुत्व की भावना के साथ रहना सिखाता है ।शाला की शिक्षिका तबस्सुम ने भारतीय संविधान की प्रमुख विशेषताओं एवं अधिकारों पर रोशनी डाली।

कार्यक्रम के अंतिम सत्र में क्विज कॉम्पिटिशन, निबन्ध लेखन एवं चित्रकला के प्रथम, द्वितीत व तृतीय विजेता को ड्रॉइंग बुक, ड्राइंग किट एवं प्रमाण पत्र मुख्य अतिथि द्वारा दिया गया।

Tags
Back to top button