छत्तीसगढ़

हमारी सरकार सिर्फ नारे नहीं लगाती बल्कि गरीबी के खिलाफ लड़ने के लिए गरीबों की मदद करती है: डॉ. रमन सिंह

मुख्यमंत्री शामिल हुए प्रगति और आवास मेले में,110 करोड़ के निर्माण कार्यों का लोकार्पण-भूमिपूजन

रायपुर: मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि छत्तीसगढ़ सरकार सिर्फ नारे नहीं लगाती बल्कि अपनी योजनाओं के जरिए गरीबी के खिलाफ लड़ने के लिए गरीबों की मदद करती है। सरकार की योजनाएं आम जनता के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए हैं और सर्व समाज की बेहतरी के लिए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में गांव, गरीब और किसानों के विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है और इसके लिए कई योजनाओं की शुरूआत की है।

मुख्यमंत्री आज दोपहर सरगुजा जिले के ग्राम-बटवाही (विकासखण्ड-लुण्ड्रा) में प्रगति और आवास मेले का शुभारंभ करने के बाद विशाल जनसभा को संबोधित कर रहे थे। डॉ. सिंह ने कहा-सरकार की योजनाओं से विगत लगभग दस वर्ष में सरगुजा की तस्वीर काफी बदल गई है। पूरे सरगुजा संभाग में सड़कों और पुल-पुलियों का जाल बिछाया जा रहा है। सरगुजा विकास की ऊंचाईयों को छू रहा है।

उन्होंने बटवाही में इस विशाल आयोजन का उल्लेख करते हुए कहा-इतनी बड़ी संख्या में जनता की उपस्थिति विकास योजनाओं के प्रति लगातार बढ़ती जनभागीदारी का परिचायक है। डॉ. सिंह ने कहा-अकेले सरगुजा संभाग में इस समय 670 करोड़ रूपए की सड़के बन रही हैं। संभागीय मुख्यालय अम्बिकापुर में एयरपोर्ट निर्माण के लिए शासन द्वारा 23 करोड़ 53 लाख रूपए मंजूर किए गए, जिसका निर्माण तेजी से पूर्णता की ओर है।

रेल और रोड कनेक्टिविटी के बाद सरगुजा बहुत जल्द विमान यातायात सेवाओं से भी जुड़ जाएगा। डॉ. रमन सिंह ने प्रगति और विकास मेले में जन प्रतिनिधियों के आग्रह पर ग्राम रघुनाथपुर में नए बए स्टैण्ड के निर्माण, ग्राम पंचायत बटवाही, लामगांव और रघुनाथपुर में सीमेंट कंाक्रीट सड़क की मंजूरी देने की घोषणा की। उन्होंने बटवाही ग्राम पंचायत के नवापारा में 125 एकड़ की सिंचाई क्षमता वाले स्टॉप डेम निर्माण के लिए एक करोड़ 25 लाख रूपए और विकासखण्ड मुख्यालय लुण्ड्रा में सब्जी उत्पादक किसानों के लिए नर्सरी निर्माण हेतु एक करोड़ 50 लाख रूपए भी तत्काल मंजूर करने का ऐलान किया।

मुख्यमंत्री ने प्रगति और विकास मेले में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत चार हजार 792 हितग्राहियों को मकान स्वीकृति पत्रों का वितरण किया। इन्हें मिलाकर कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के हाथों विभिन्न योजनाआंे के तहत 8 हजार 471 हितग्राहियों को 63 करोड़ 35 लाख रूपए की सामग्री सहित प्रमाण पत्र और अनुदान राशि के चेक प्राप्त हुए। डॉ. सिंह ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत चार सौ महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शनों का वितरण किया, वहीं उन्होंने प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) के तहत पांच सौ आवेदकों को बिजली का कनेक्शन भी दिया।

डॉ. सिंह ने कार्यक्रम में क्षेत्र के विकास के लिए लगभग 110 करोड़ रूपए के 17 निर्माण कार्यों का लोकापर्ण, भूमिपूजन और शिलान्यास किया। डॉ. सिंह ने इस अवसर पर ऐलान किया कि राज्य सरकार अपनी संचार क्रांति योजना के तहत 55 लाख लोगों को स्मार्ट फोन वितरण का कार्य अगले मई माह के अंत में शुरू कर देगी। विकास यात्रा के दौरान स्मार्ट फोन वितरित किए जाएंगे। हमने तय किया है कि बी.ए., बी.एस-सी., बी.कॉम., एम.एम., एम.कॉम. सहित स्नातक और स्नातकोत्तर कक्षाओं के विद्यार्थियों को भी निःशुल्क स्मार्ट फोन देंगे।

जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा-गरीबी उन्मूलन और जनता का सामाजिक, आर्थिक विकास कैसे होता है यह देखना हो तो को छत्तीसगढ़ में हो रहे कार्यों को देखना चाहिए। सरगुजा सहित प्रदेश के सभी इलाकों में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। राज्य के जिन गरीब परिवारों को कभी कनकी (चावल के टुकड़े) खाकर गुजारा करना पड़ता था, आज उन्हें सिर्फ एक रूपए किलो में चावल मिल रहा है।

उन्होंने बटवाही के प्रगति और विकास मेले में एक ही स्थान पर 8 हजार से ज्यादा हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं का लाभ मिलने का उल्लेख करते हुए कहा कि इस आयोजन में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एक साथ चार हजार 792 परिवारों को मकान स्वीकृति पत्र दिए गए हैं। यह इस बात का परिचायक है कि ये परिवार अब एक नये युग में प्रवेश कर रहे हैं। उन्हें कहीं भटकने या मकान के लिए किसी भी व्यक्ति के आगे पीछे घूमने की जरूरत नही है। योजना के तहत उनको लगभग डेढ़ लाख रूपए का पक्का मकान मिलेगा।

डॉ. सिंह ने कहा-मुख्यमंत्री होने के नाते प्रदेश के प्रत्येक गरीब परिवार के लिए भोजन और इलाज की समुचित व्यवस्था करना मेरी और मेरे सरकार की जिम्मेदारी है जिसे हम लोग बखूबी निभा रहे हैं। गरीबों को चावल और नमक उपलब्ध कराने की भी सरकार ने व्यवस्था की है। उन्होंने कहा- डॉक्टर होने के नाते मैंने यह महसूस किया कि गरीबों को बीमार पड़ने पर इलाज के लिए पैसों की कमी से काफी परेशानी होती है। इसे ध्यान में रखकर उन्हें स्वास्थ्य बीमा की सुविधा देने की योजना बनाई। यह योजना गरीबों के साथ-साथ सामान्य लोगों के लिए भी है। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत आमदनी के बंधन से परे प्रदेश के सभी परिवारों को स्मार्ट कार्ड के आधार पर सालाना 50 हजार रूपए तक निःशुल्क इलाज की सुविधा दी जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा -आज केन्द्र और राज्य दोनों सरकारों की योजनाएं सर्व समाज के कल्याण के लिए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दो दिन पहले छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान ग्राम-जांगला (जिला-बीजापुर) में देश और दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना ‘आयुष्मान भारत‘ के प्रथम चरण का शुभारंभ करते हुए हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर का लोकार्पण किया। आयुष्मान भारत योजना में गरीब परिवारों को 5 लाख रूपए तक सालाना इलाज की सुविधा मिलेगी। जरूरतमंद मरीजों के हृदय रोग, किडनी, लीवर और घुटने के आपरेशन किए जाएंगे। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा- नरेन्द्र मोदी ने इस योजना के तहत अब अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के सभी परिवारों को भी रसोई गैस कनेक्शन देने की घोषणा की है। राज्य में इस वर्ष एक अपै्रल से इसका लाभ मिलने लगेगा।

पात्रता रखने वाले प्रत्येक परिवार को रसोई गैस कनेक्शन दिया जाएगा। इस योजना के तहत सरकार ढाई हजार से तीन हजार में मिलने वाला रसोई गैस चूल्हा और पहला भरा हुआ सिलेण्डर भी निःशुल्क दे रही है। सरगुजा जिले में 60 हजार परिवारों को रसोई गैस कनेक्शन मिल चुके हैं। इस जिले में लगभग 70 प्रतिशत से ज्यादा परिवारों को मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना का लाभ मिल रहा है। प्रधानमंत्री ने सौभाग्य योजना के तहत देश में बिजली से वंचित हर घर और हर मजरे टोले को रौशन करने की घोषणा की है। इसके अंतर्गत सरगुजा जिले में और लुण्ड्रा क्षेत्र में भी तेजी से काम हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की मुकम्मल व्यवस्था, तेंदूपत्ता तोड़ने वाले श्रमिकों को चरण पादुका और महिला तेंदूपत्ता श्रमिकों को साड़ी वितरण, वनवासी क्षेत्रों के बेटे-बेटियों को मेडिकल और इंजीनियरिंग कालेजों में प्रवेश तथा लोक सेवा आयोग और संघ लोक सेवा आयोग के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की निःशुल्क कोचिंग जैसी योजनाएं सरकार की संवेदनशीलता का परिचायक है। डॉ. रमन सिंह ने कहा-आज सरगुजा संभाग के बलरामपुर, सूरजपुर और लुण्ड्रा जैसे आदिवासी बहुल इलाकों के बच्चे भी इन सुविधाओं का लाभ लेकर मेडिकल और इंजीनियरिंग कालेजों सहित आई.आई.टी. में भी प्रवेश ले रहे हैं। प्रधानमंत्री ने भी कहा है कि लोग अपने बच्चों को खूब पढ़ायें, उन्हें ज्यादा से ज्यादा शिक्षित करें, ताकि वे भी समाज के हर क्षेत्र में आगे बढ़ सके। कार्यक्रम में गृह, जेल और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री रामसेवक पैकरा, श्रम तथा खेल युवा कल्याण मंत्री भईया लाल राजवाड़े और अन्य अनेक वरिष्ठ जन प्रतिनिधि उपस्थित थे।

congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button