पीएम केयर्स के तहत लगाए जा रहे 1,500 से अधिक ऑक्सीजन संयंत्र

पीएम ने की समीक्षा बैठक

दिल्ली: कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की बढ़ती जरूरत के बाद देश में ऑक्सीजन उत्पादन बढ़ाने का प्रयास लगातार जारी है। इसी के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में लगाए जा रहे ऑक्सीजन संयंत्र पर एक एक उच्चस्तरीय बैठक की, जिसमें देश में ऑक्सीजन बढ़ाने और उपलब्धता की प्रगति पर एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना और वृद्धि के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

देश में 1,500 से अधिक लगाए जा रहे पीएसए ऑक्सीजन प्लांट

शुक्रवार को वर्चुअल माध्यम से हुई समीक्षा बैठक में अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना की प्रगति के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि देश भर में 1,500 से अधिक पीएसए ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं, जिसमें पीएम केयर्स के साथ-साथ विभिन्न मंत्रालयों और सार्वजनिक उपक्रमों का योगदान शामिल है।

4 लाख से अधिक ऑक्सीजन युक्त बेड के साथ करेंगे काम

पीएम केयर्स द्वारा प्रदान किए गए पीएसए ऑक्सीजन प्लांट देश के सभी राज्यों और जिलों में लगाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री को बताया गया कि एक बार पीएम केयर्स के माध्यम से आने वाले सभी पीएसए ऑक्सीजन प्लांट चालू हो जाएंगे, तो वे 4 लाख से अधिक ऑक्सीजन युक्त बेड के साथ काम करेंगे।

राज्य सरकारों के साथ मिल कर हो रहा है काम

बैठक में मोदी ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि इन संयंत्रों को जल्द से जल्द चालू किया जाए और इसके लिए राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम किया जाए । अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को अवगत कराया कि ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना की प्रगति की जानकारी और निगरानी के लिए वे राज्य सरकारों के अधिकारियों के साथ नियमित संपर्क में हैं।

पीएम ने संयंत्रों के संचालन और रखरखाव के लिए प्रशिक्षण का दिया निर्देश

पीएम मोदी ने अधिकारियों से ऑक्सीजन संयंत्रों के संचालन और रखरखाव पर अस्पताल के कर्मचारियों के लिए पर्याप्त प्रशिक्षण सुनिश्चित करने के लिए कहा। उन्होंने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया कि प्रत्येक जिले में प्रशिक्षित कर्मी उपलब्ध हों। अधिकारियों ने उन्हें बताया कि विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया गया एक प्रशिक्षण मॉड्यूल है और वे देश भर में लगभग 8,000 लोगों के प्रशिक्षण का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं।

पीएम ने अधिकारियों से यह भी कहा कि हमें स्थानीय और राष्ट्रीय स्तर पर इन ऑक्सीजन संयंत्रों के प्रदर्शन और कामकाज की निगरानी के लिए आईओटी जैसी उन्नत तकनीक को तैनात करना चाहिए। अधिकारियों ने प्रधानमंत्री को ऑक्सीजन संयंत्रों के प्रदर्शन की निगरानी के लिए आईओटी का उपयोग करके किए जा रहे एक पायलट योजना के बारे में अवगत कराया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button