स्‍वामित्‍व केवल कानूनी दस्‍तावेज उपलब्‍ध कराने की योजना नहीं-प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि स्‍वामित्‍व योजना केवल कानूनी दस्‍तावेज प्रदान करने की योजना नहीं है बल्कि यह आधुनिक प्रौद्योगिकी की मदद से देश के गांवों में विकास और विश्‍वास का नया मंत्र भी है।
प्रधानमंत्री ने यह बात आज वीडियो कान्‍फ्रेंस के जरिए मध्‍यप्रदेश में एक लाख 71 हजार लाभार्थियों को वर्चुअल माध्‍यम से ई-संपत्ति कार्ड वितरित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम के दौरान की। इस अवसर पर मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले गांव के लोग संपत्ति रिकॉर्ड नहीं होने के कारण विकास के लिए अपनी जमीन का पूरी तरह इस्‍तेमाल नहीं कर पाते थे। गांव की जमीन और मकानों पर अवैध कब्‍जे को लेकर विवाद और लड़ाई में लोगों की ऊर्जा, समय और पैसा बर्बाद होता था। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री स्‍वामित्‍व योजना इस दिशा में हमारे गांव के भाईयों और बहनों की बड़ी ताकत बनेगी।
प्रधानमंत्री ने कहा कि ड्रोन तकनीक के जरिए सर्वेक्षण से भारत में गांवों के विकास को नया आयाम मिलेगा। उन्‍होंने कहा कि अब सरकार स्‍वयं गरीबों के द्वार पर पहुंच रही है और उन्‍हें सशक्‍त कर रही है।
प्रधानमंत्री ने मध्‍यप्रदेश में स्‍वामित्‍व योजना के लाभार्थियों से वर्चुअल माध्‍यम से संवाद भी किया।

प्रधानमंत्री के साथ संवाद के दौरान हर्दा के लाभार्थी पवन कुमार ने बताया कि भू-अधिकार के ई-रिकॉर्ड से उन्‍हें लाभ मिल रहा है। ई-संपत्ति की मदद से उन्‍हें बैंक से आसानी से ऋण मिल गया है।
प्रधानमंत्री ने डिंडोरी जिले के एक लाभार्थी प्रेम सिंह से भी बात की। प्रेम सिंह ने बताया कि उन्‍हें प्रशासन की मदद से संपत्ति कार्ड मिला है।

प्रधानमंत्री ने सिहोर के बुधनी से विनिता बाई से भी संवाद किया। उन्‍होंने बताया कि ई-संपत्ति कार्ड से नया कारोबार शुरू करने के लिए उन्‍हें बैंक से ऋण लेने में मदद मिलेगी।
इस अवसर पर मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि गुजरात के मुख्‍यमंत्री के कार्यकाल के दौरान श्री मोदी द्वारा दिए गए जन कल्‍याण और सुराज मॉडल ने गुजरात का कायाकल्‍प किया है और प्रधानमंत्री के रूप में इसी समर्पण के साथ उन्‍होंने भारत का कायाकल्‍प किया है।

चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा सभी क्षेत्रों में पारदर्शी व्‍यवस्‍था शुरू किए जाने से विकास गतिविधियों में तेजी आई है। श्री चौहान ने आश्‍वासन दिया कि प्रधानमंत्री के सुशासन के मॉडल से मध्‍यप्रदेश भी आत्‍मनिर्भर बनेगा।

राज्‍य के जन कल्‍याण और सुराज अभियान के अंतर्गत 19 जिलों के तीन हजार गांवों में भू अभिलेख पत्र वितरित किए गए।
अब तक राज्‍य के 42 जिलों में सर्वेक्षण का काम शुरू हो गया है जबकि 24 जिलों में 24 ड्रोन के जरिए काम चल रहा है। इनमें से छह हजार पांच सौ गांवों में ड्रोन के जरिए सर्वेक्षण पूरा कर लिया गया है।
स्‍वामित्‍व, केंद्रीय पंचायती राज मंत्रालय की योजना है। इसका उद्देश्‍य ग्रामीण क्षेत्र के निवासियों को संपत्ति अधिकार प्रदान करना है। इस योजना से गांवों के निवासी शहरी क्षेत्रों की तरह ऋण और अन्‍य वित्‍तीय लाभ लेने के लिए संपत्ति का इस्‍तेमाल कर सकेंगे। इस योजना के अंतर्गत ड्रोन तकनीक के जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि का सीमांकन किया जाता है। इस योजना से देश में ड्रोन निर्माण के तंत्र को भी बल मि

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button