ऑक्सफोर्ड में फिर जोर पकड़ने लगा स्कॉलर गाउन का मुद्दा

लंदनः ब्रिटेन की सबसे प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में से एक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में गाउन का मुद्दा फिर जोर पकड़ने लगा है। यहां के छात्रों ने ‘अभिजात’ स्कॉलर गाउन को भेदभाव का प्रतीक बताया है और इसे पहनने के नियम को खत्म करने की मांग की है। यह गाउन अच्छे अंक या छात्रवृत्ति पाने वाले स्नातक के छात्र पहनते हैं।
छात्रों का कहना है कि इस नियम से कुछ छात्र स्वयं को हीन समझने लगते हैं।

इस मामले में यूनिवर्सिटी की ओर से कोई जवाब नहीं आया है। यूनिवर्सिटी नियमों के मुताबिक, ज्यादातर स्नातक छात्रों को परीक्षा के दौरान स्लीवलेस गाउन पहनना होता है। लेकिन पहले साल की परीक्षा में अच्छे अंक पाने वाले या स्कॉलरशिप हासिल करने वाले छात्र लांग स्लीव का गाउन (स्कॉलर गाउन) पहनते हैं। ऐसे में अधिकतर छात्र-छात्रा स्लीवलेस गाउन पहनते हैं, जबकि कुछ ही लांग स्लीव का गाउन पहनते हैं।

यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन ने एक प्रस्ताव पारित कर मांग की है कि विशेष गाउन पहनने पर रोक लगा दी जानी चाहिए क्योंकि इससे अन्य छात्र यह सोचकर दबाव महसूस करते हैं कि पिछली परीक्षा में वे अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके थे। पिछले साल भी इस तरह का एक प्रस्ताव पारित किया गया था, जिसमें मौखिक परीक्षा के दौरान स्कॉलर गाउन पहनने पर रोक की बात कही गई थी ताकि परीक्षक गाउन से प्रभावित होकर पक्षपात न करे।

यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट न्यूजपेपर चेयरवेल में एक छात्रा इसोबेल कॉकबर्न ने लिखा है कि अलग-अलग गाउन समुदाय और समानता की आदर्श अवधारणा के विपरीत है। एेसा खासकर विज्ञान, तकनीक, इंजीनियरिंग और गणित विषयों की छात्राओं में अधिक होता है। हालांकि इस पर फैसला अक्टूबर में ही संभव है, जब एसयू काउंसिल इस पर अंतिम वोटिंग कराएगी।

Back to top button