अंतर्राष्ट्रीयराष्ट्रीयहेल्थ

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल रुका

एक वॉलंटियर की हेल्थ में गंभीर रिएक्शन (साइड इफेक्ट) के बाद लिया गया निर्णय

नई दिल्ली: ब्रिटेन में वैक्सीन लेने वाले एक वॉलंटियर की हेल्थ में गंभीर रिएक्शन (साइड इफेक्ट) देखने के बाद ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल अमेरिका में रोक दिया गया है.

एस्ट्राजेनेका के एक प्रवक्ता ने बताया कि ‘स्टैंडर्ड रिव्यू प्रोसेस’ ने सेफ्टी डेटा रिव्यू की अनुमति के लिए वैक्सीनेशन को रोका है. इस वैक्सीन कैंडिडेट को अमेरिका और ब्रिटेन में कई जगहों पर टेस्ट किया जा रहा था. लोकल रिपोर्ट के मुताबिक, सुरक्षा का ये मुद्दा तुरंत सामने नहीं आया था. हालांकि वैक्सीन से तबियत बिगड़ने के बाद वॉलंटियर के रिकवर होने की उम्मीद है.

स्टैट न्यूज ने बताया कि इस वैक्सीन ट्रायल को रोकने का असर एस्ट्राजेनेका के बाकी वैक्सीन ट्रायल्स पर भी पड़ा है. वैक्सीन निर्माताओं द्वारा किए जाए रहे अन्य क्लीनिकल ट्रायल्स भी इससे प्रभावित हुए हैं.

एस्ट्रेजेनेका के प्रवक्ता ने कहा, ‘ये एक रूटीन एक्शन है जो किसी भी ट्रायल में अस्पष्ट बीमारी के होने पर उसकी जांच करते हुए अक्सर होता है. हम ये सुनिश्चित करते हैं कि ट्रायल पूरी ईमानदारी से किया जाए.’ प्रवक्ता ने यह भी बताया कि समीक्षा में तेजी लाने और ट्रायल की टाइमलाइन पर संभावित प्रभाव को कम करने के लिए काम किया जा रहा है.

एस्ट्राजेनेका के तमाम वैक्सीन ट्रायल्स पर असर

वैक्सीन की विकास प्रक्रिया से जुड़े एक शख्स के मुताबिक, शोधकर्ताओं ने कहा था कि सावधानी को प्रमुखता से ध्यान में रखते हुए ट्रायल को होल्ड पर रखा गया है. एक अन्य व्यक्ति ने नाम ना बताने की शर्त पर बताया कि इस घटना का एस्ट्राजेनेका के तमाम वैक्सीन ट्रायल्स पर असर पड़ा है. साथ ही अन्य वैक्सीन निर्माताओं द्वारा किए जा रहे क्लीनिकल ट्रायल्स भी इससे प्रभावित हुए हैं.

क्लीनिकल ट्रायल पर रोक असामान्य नहीं हैं और यह स्पष्ट भी नहीं है कि एस्ट्राजेनेका इसे कितने समय तक होल्ड पर रख सकता है. मौजूदा समय में नौ संभावित वैक्सीन ट्रायल के तीसरे चरण में हैं और सभी इस वैश्विक महामारी को काबू करने के नए तरीकों को खोजने में जुटे हैं.

सूत्रों के मुताबिक, शोधकर्ता अब तथाकथित ‘डेटा एंड सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड’ द्वारा रिव्यू किए गए डेटाबेस के आधार वैक्सीन से होने वाले साइड इफेक्ट के अन्य मामलों की जांच में जुट गए हैं. अब अगर इस तरह के और भी कई मामले सामने आते हैं तो वैक्सीन को का जल्द आना मुश्किल हो जाएगा.

ट्रायल सितंबर के पहले हफ्ते में शुरू किया जाना था

बता दें कि इससे पहले भारत में इस वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल किया जाना है, लेकिन चंडीगढ़ के द पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (PGIMER) में होने वाला इस वैक्सीन का ट्रायल एक हफ्ते के लिए टाल दिया गया है. ये ट्रायल सितंबर के पहले हफ्ते में शुरू किया जाना था.

इस हफ्ते के देरी के पीछे सुरक्षा के कुछ कारण बताए जा रहे हैं. डाटा सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड (DSMB) ने न्यूज एजेंसी IANS को जानकारी देते हुए बताया कि सेफ्टी अप्रूवल ना मिल पाने की वजह से इस ट्रायल को एक हफ्ते के लिए टाल दिया गया है. इस ट्रायल के लिए 100 लोगों को चुना गया है.

ट्रायल में देरी की वजह से और वॉलंटियर्स की भर्ती रोक दी गई है. फिलहाल ट्रायल के लिए 400 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है जिसमें 253 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जाएगी. PGIMER में वैक्सीन ट्रायल शेड्यूल के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर प्रोफेसर मधु गुप्ता ने कहा, ‘फिलहाल, ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के ट्रायल के लिए वॉलंटियर्स की भर्ती को होल्ड पर डाल दिया गया है क्योंकि हम डाटा सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड की तरफ से पहले 100 वॉलंटियर्स की सुरक्षा की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं.’

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button