छत्तीसगढ़बिज़नेस

खरीफ वर्ष 2020-21 के लिए धान और मक्का खरीदी नीति

समितियों में सोमवार से शुक्रवार तक होगी खरीदी

रायपुर। राज्य शासन द्वारा खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर धान और मक्का खरीदी के लिए दिशा निर्देश जारी किया गया है। राज्य में भारत सरकार द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य पर काॅमन धान 1868 रूपए प्रति क्विंटल और ग्रेड ए धान 1888 रूपए प्रति क्विंटल एवं मक्का 1850 रूपए प्रति क्विंटल में खरीदा जाएगा। खरीफ वर्ष 2020-21 के दौरान राज्य के किसानों से नगद व लिकिंग में धान खरीदी की जाएगी। धान खरीदी एक दिसम्बर से 31 जनवरी तक और मक्का खरीदी 1 दिसम्बर से 31 मई तक की जाएगी।

बीज उत्पादक किसानों से समर्थन मूल्य पर धान बीज खरीदी चिन्हांकित खरीदी केन्द्रों में बीज निगम के प्रमाण पत्र के आधार पर एक मार्च से 31 मई तक की जाएगी। राज्य के समितियों द्वारा शासकीय अवकाश दिवसों को छोड़कर सोमवार से शुक्रवार तक धान खरीदी की जाएगी तथा प्रत्येक शनिवार को क्रय किए गए धान की मात्रा बारदानों का उपयोग तथा समिति को धान उपार्जन के लिए प्राप्त राशि के व्यय की पुष्टि धान खरीदी साफ्टवेयर में अनिवार्य रूप से किया जाएगा।

जिले के प्रभारी मंत्री द्वारा अनुमोदित दो जनप्रतिनिधियों को शामिल

सहकारी समिति स्तर पर सही गुणवत्ता एवं पंजीकृत किसानों से धान की खरीदी एवं माॅनिटरिंग के लिए स्थानीय स्तर पर एक समिति गठित की जाएगी। जिसमें सहकारी समिति के अध्यक्ष, प्राधिकृत अधिकारी, संबंधित क्षेत्र के सरपंच, कलेक्टर द्वारा नामांकित एक प्रतिनिधि और संबंधित जिले के प्रभारी मंत्री द्वारा अनुमोदित दो जनप्रतिनिधियों को शामिल किया जाएगा। स्थानीय स्तर पर गठित समितियों द्वारा यह सुनिश्चित किया जाएगा। भारत सरकार द्वारा निर्धारित गुणवत्ता किस्म की धान एवं मक्का पंजीकृत किसानों से खरीदा जाएगा।

मक्का खरीदी प्राथमिक कृषि साख समितियों एवं लैम्पस के माध्यम से होगी

खाद्य विभाग से जारी आदेश के अनुसार खरीफ वर्ष 2020-21 में प्रदेश के किसानों से प्रति एकड़ अधिकतम 15 क्विंटल धान लिकिंग सहित खरीदी की जाएगी। इसी प्रकार अधिकतम 10 क्विंटल प्रति एकड़ लिकिंग सहित मक्का खरीदी निर्धारित की गई है। समर्थन मूल्य पर धान एवं मक्का खरीदी प्राथमिक कृषि साख समितियों एवं लैम्पस के माध्यम से होगी। प्रदेश में 48 मंडियों एवं 76 उप मंडियों के प्रांगण का उपयोग धान उपार्जन के लिए किया जाएगा। अधिया, रेगहा के माध्यम से उत्पादित धान उपार्जन केन्द्रों में बेचने के लिए लाने वाले किसानों को भूमि की ऋण पुस्तिका भी लानी होगी। सभी खरीदी केन्द्रों में अधिया, रेगहा के माध्यम से उत्पादित धान खरीदी के आकड़ों को पृथक रूप से संधारित किया जाएगा।
गतवर्ष की भांति छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ द्वारा समितियों को धान खरीदी के लिए अग्रिम राशि प्रदान किया जाएगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button