अपने देश के बारे में सोचे पाक प्रधानमंत्री इमरान खान – पूर्व क्रिकेटर कैफ

भारत में विभाजन के बाद से अल्पसंख्यकों की संख्या लगातार बढ़ी है।

पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को आइना दिखाया है। भारत में अल्पसंख्यकों की स्थिति पर इमरान खान के बयान पर ट्वीट कर कैफ ने जवाब दिया है।

कैफ ने अपने ट्वीट में कहा है, ‘इमरान खान को पहले अपने देश के बारे में सोचना चाहिए। विभाजन के वक्त पाकिस्तान में 20 फीसद अल्पसंख्यक थे, जो आज महज दो फीसद रह गए हैं।

जबकि भारत में विभाजन के बाद से अल्पसंख्यकों की संख्या लगातार बढ़ी है। अल्पसंख्यकों के साथ व्यवहार को लेकर ज्ञान देने वाला पाकिस्तान आखिरी देश होगा।’ कैफ का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

ओवैसी-शाह ने साधा था निशाना

कैफ से पहले एआइएमआइएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी और खुद नसीरुद्दीन शाह ने भी इमरान खान पर निशाना साधा था।

ओवैसी ने कहा था कि पाकिस्तान के संविधान के मुताबिक वहां का राष्ट्रपति सिर्फ मुस्लिम ही बन सकता है, जबकि भारत ने वंचित तबके के कई राष्ट्रपति देखे हैं।

वहीं, नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि इमरान खान को उन मुद्दों पर ही बात करनी चाहिए, जो उनके देश से जुड़े हैं। हमारे देश में 70 सालों से लोकतंत्र हैं और हम जानते हैं कि हमें इन मुद्दों को कैसे सुलझाना है।

गौरतलब है कि शाह ने बुलंदशहर की घटना का जिक्र करते हुए कहा था कि एक पुलिस इंस्पेक्टर की जान से ज्यादा महत्व गाय की जान हो गई है। यह भी कहा था कि उन्हें अपने बच्चे को लेकर फिक्र होने लगी है।

इसी पर इमरान ने कहा था कि भारत में अल्पसंख्यकों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता और हम भारत को दिखाएंगे कि अल्पसंख्यकों के साथ किस तरह से व्यवहार करना चाहिए।

फिर बोले इमरान इमरान खान ने मंगलवार को एक बार फिर अल्पसंख्यकों पर बयान दिया।

जिन्ना के जन्मदिन के मौके पर इमरान ने कहा कि नए पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ बराबरी का व्यवहार होगा, वैसा नहीं जैसा कि भारत में होता है।

खान ने ट्वीट में कहा कि जिन्ना ने अगल राष्ट्र की मांग ही यह महसूस करने के बाद की थी कि आजादी के बाद भारत में अल्पसंख्यक मुस्लिमों के साथ बराबरी का व्यवहार नहीं किया जाएगा।

advt
Back to top button