पाक जब तक आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई नहीं करेगा नही मिलेगी कोई मदद : अमेरिका

ट्रंप ने हाल में कहा था, 'अमेरिका से अरबों डॉलर की मदद लेने के बाद भी पाकिस्तान ने आतंकियों पर कोई कार्रवाई नहीं की।

अमेरिका ने इस साल पाकिस्तान को मिलने वाली तीन अरब डॉलर (करीब 21 हजार करोड़ रुपये) की सुरक्षा मदद रोक दी है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल में आतंकी संगठनों पर अंकुश लगाने की नाकामी के चलते पाकिस्तान की सुरक्षा मदद रोकने का एलान किया था।

ट्रंप प्रशासन ने तब यह आंकड़ा 1.3 अरब डॉलर (करीब नौ हजार करोड़ रुपये) का बताया था। लेकिन विविध फंडिंग स्रोतों से मिले सभी आंकड़ों के आधार पर रोकी गई सुरक्षा मदद को लेकर नई जानकारी सामने रखी गई है।

ट्रंप ने हाल में कहा था, ‘अमेरिका से अरबों डॉलर की मदद लेने के बाद भी पाकिस्तान ने आतंकियों पर कोई कार्रवाई नहीं की।

पाकिस्तान जब तक अपने यहां आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई नहीं करेगा, तब तक उसे कोई मदद नहीं मिलेगी।’ ट्रंप के इस बयान से तिलमिलाए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि ट्रंप के सामने आंकड़े रखने की जरूरत है।

हमने आतंक के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका का साथ दिया। इस लड़ाई में 75 हजार पाकिस्तानियों की जान गई और अर्थव्यवस्था को 123 अरब डॉलर का नुकसान हुआ।

डबल गेम खेल रहा पाकिस्तान

अमेरिका के कई वरिष्ठ अधिकारियों का मानना है कि अमेरिका के साथ पाकिस्तान डबल गेम खेल रहा है। वह हक्कानी नेटवर्क, तालिबान और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ कोई संतोषजनक कार्रवाई नहीं कर रहा।

ओबामा के कार्यकाल से उठनी शुरू हुई थी सख्ती की मांग

ओबामा प्रशासन के दूसरे कार्यकाल के दौरान कई अमेरिकी सांसदों ने यह मांग उठानी शुरू की थी कि पाकिस्तान को मिलने वाली सुरक्षा मदद के लिए कड़ी शर्तें लगाई जानी चाहिए। लेकिन ट्रंप अमेरिका के पहले ऐसे राष्ट्रपति बन गए हैं जिन्होंने पाकिस्तान की सुरक्षा मदद रोकने की घोषणा की।<>

 

1
Back to top button