पाकिस्तान बोला- इंटरनेशनल टेररिस्ट नहीं, फ्रीडम फाइटर है सैय्यद सलाहुद्दीन, करते रहेंगे मदद

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान हिजबुल चीफ सैय्यद सलाहुद्दीन को अमेरिका ने वैश्विक आतंकवादी घोषित किया। अमेरिका ने कहा कि सलाहुद्दीन तमाम आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है, और आतंकवादियों को मदद मुहैय्या कराता रहा है। पर पाकिस्तान ने अमेरिका के इस कदम की आलोचना की है। पाकिस्तान ने कहा है कि मोहम्मद यूसुफ शाह उर्फ सैय्यद सलाहुद्दीन आतंकवादी नहीं है, बल्कि वो कश्मीरी स्वतंत्रता सेनानी है। इन नाते उसे पाकिस्तान में रहने की छूट मिली हुई है।

पाकिस्तान ने सलाहुद्दीन के पाकिस्तानी जमीन के इस्तेमाल पर भी बेशर्मी के साथ अपना बचाव किया। पाकिस्तान का कहना है कि वो स्वतंत्रता सेनानियों की मदद करता है। सलाहुद्दीन जो कुछ भी कर रहा है, वो कश्मीर की आजादी के लिए है। उसे आतंकवादी बताना सही नहीं होगा।

इससे पहले, आतंकवाद के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वैश्विक मुहिम को बड़ी कामयाबी मिली है। अमेरिकी विदेश विभाग ने कश्मीरी आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन को विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकी घोषित किया। पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुलाकात से कुछ घंटे पहले ही इसका एलान हुआ। पीएम मोदी की अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन से मुलाकात के बाद इसकी अधिसूचना जारी की गई।

इस फैसले के बाद अमेरिकी लोगों का सलाहुद्दीन के साथ किसी तरह का वित्तीय लेनदेन करना प्रतिबंधित होगा। अमेरिका में सलाहुद्दीन की सभी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी। भारत ने इस कदम का स्वागत किया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह कदम दृढ़ता से इस बात को रेखांकित करता है कि भारत और अमेरिका आतंकवाद का सामना कर रहे हैं।

सलाहुद्दीन ने कश्मीरियों को आत्मघाती हमलावर के तौर पर प्रशिक्षण देने की धमकी दी थी

अमेरिकी विदेश विभाग ने सितंबर 2016 में कहा था कि हिजबुल के चीफ ने कश्मीर समस्या के किसी भी शांतिपूर्ण समाधान को रोकने की कसम खाई थी। सैयद मोहम्मद यूसुफ शाह के नाम से भी पहचाने जाने वाले सलाहुद्दीन ने कश्मीरियों को आत्मघाती हमलावर के तौर पर प्रशिक्षण देने की धमकी दी थी। उसने कहा था कि वह कश्मीर घाटी को भारतीय फौजों की कब्रगाह बना देगा। सलाहुद्दीन के नेतृत्व में जम्मू-कश्मीर में हुई कई आतंकी हमलों की जिम्मेदारी ली। इसमें अप्रैल 2014 में हुए हमले भी शामिल हैं। इन हमलों में 17 लोग घायल हुए थे। सलाहुद्दीन को वैश्विक आतंकी घोषित करने की अधिसूचना में कहा गया है कि हिजबुल चीफ ने आतंकवाद और दूसरे खतरे पहुंचाने की धमकी दी है।

Back to top button