अंतर्राष्ट्रीयराष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान भटकाने के लिए पाकिस्तान खेलता है ‘विक्टिम कार्ड’: भारत

भारत ने एक बार फिर पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान का असली चेहरा किया उजागर

जिनेवा: संयुक्त राष्ट्र में भारत के फर्स्ट सेक्रेटरी विमर्श आर्यन ने एक बार फिर पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान का असली चेहरा उजागर करते हुए कहा कि जब भी आतंकवाद पर चर्चा होती है, तो इस पर काबू पाने में नाकाम पाकिस्तान विक्टिम कार्ड खेल देता है, ताकि अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान इस वास्तविकता से भटका सके कि वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकियों और आतंकवादी संगठनों का समर्थन कर रहा है और उन्हें शरण दे रहा है.

विमर्श आर्यन ने आतंकवाद के साथ ही अल्पसंख्यकों के अधिकारों पर भी पाकिस्तान को खरी-खरी सुनाई. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत में अल्पसंख्यकों की स्थिति की दुहाई देता है, लेकिन ये भूल जाता है कि अपने देश के नागरिकों के अधिकारों की रक्षा भी उसका कर्तव्य है. हाल ही में लाहौर के ईसाई व्यक्ति आसिफ परवेज का उदाहरण देते हुए आर्यन ने कहा कि पाकिस्तान में खुलेआम अल्पसंख्यकों पर जुल्म किये जा रहे हैं. मालूम हो कि परवेज को ईश निंदा के तहत मौत की सजा सुनाई गई थी.

पाकिस्तान के सिंध में हिंदू महिला के अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन की घटना का उल्लेख करते हुए भारतीय राजनयिक ने कहा कि पाकिस्तान में बर्बरता अपने चरम पर है. वह भारत जैसे समावेशी लोकतंत्र में महिलाओं के अधिकारों की बात करता है, लेकिन अपने देश की महिलाओं की रक्षा करने में वह पूरी तरह से असफल है. इस मामले में वह कुछ भी कहने का साहस नहीं जुटा पाता.

पत्रकारों की रक्षा करने में विफल

संयुक्त राष्ट्र में भारत के फर्स्ट सेक्रेटरी आर्यन ने बच्चों और पत्रकारों के खिलाफ बढ़ती हिंसा के मुद्दे पर भी पाकिस्तान को घेरा. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सरकार अपने पत्रकारों की रक्षा करने में पूरी तरह विफल है. बिलाल फारुकी जैसे इमानदार पत्रकारों को सेना द्वारा प्रताड़ित किया जाता है और सरकार खामोश रहती है. उन्होंने आगे कहा कि मानवाधिकार को लेकर भारत पर उंगली उठाने से पहले पाकिस्तान को अपने गिरेबां में झांक लेना चाहिए.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button