बातचीत चाहता है तो पहले आतंकवाद रोके पाकिस्तान : सेना प्रमुख

पाकिस्तानी सेना ने भारत के साथ गुपचुप तरीके से संपर्क किया है

नई दिल्ली : भारत के साथ पाकिस्तान शांति प्रस्ताव रखना चाहता है जिसके लिए पाकिस्तान सरकार ने अमेरिका की मदद लेनी चाही. लेकिन पाकिस्तानी सेना की तरफ से ‘शांति प्रस्ताव’ के पैंतरे पर सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि अगर पाकिस्तान बातचीत चाहता है तो वह पहले आतंकवाद रोके।

जनरल रावत ने कहा, ‘पहल उनकी (पाकिस्तान) तरफ से होनी चाहिए। उनको आतंकवाद रोकना है, अगर वे आतंकवाद रोकेंगे तो हम (भारतीय सेना) भी नीरज चोपड़ा बनेंगे।’

बता दें कि हाल में हुए एशियन गेम्स में भारत के नीरज चोपड़ा ने जेवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल जीता था, जबकि पाकिस्तान को ब्रॉन्ज मिला था। चोपड़ा ने तब खेल भावना का परिचय देते हुए आगे बढ़कर ब्रॉन्ज जीतने वाले पाकिस्तानी खिलाड़ी से हाथ मिलाया था।

सेना प्रमुख ने एशियन गेम्स में मेडल जीतने वाले सेना के खिलाड़ियों के सम्मान समारोह के दौरान एक सवाल के जवाब में यह बात कही। इस दौरान उन्होंने कहा कि कश्मीर में हालात 2017 से पहले के मुकाबले बेहतर हुए हैं और 2018 में इसमें और सुधार हो रहे हैं।

बता दें कि नीरज चोपड़ा पिछले साल ही बतौर जूनियर कमिशंड ऑफिसर सेना का हिस्सा बने। हालिया एशियन गेम्स में गोल्ड जीतने के बाद पाकिस्तानी ब्रॉन्ज मेडलिस्ट से हाथ मिलाने की उनकी तस्वीर को टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने भी ट्विटर पर शेयर किया था और उनके कदम की तारीफ की थी।

पाक सेना का ‘शांति प्रस्ताव’ पैंतरा

अमेरिकी अखबार न्यू यॉर्क टाइम्स की एक हालिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तानी सेना ने भारत के साथ गुपचुप तरीके से संपर्क किया है लेकिन इस पर भारत की तरफ से कुछ खास प्रतिक्रिया नहीं मिली है।

रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान चुनाव से महीने भर पहले यह संपर्क अभियान पाक आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा की तरफ से सामने आया। पाकिस्तान ने 2015 के बाद से ठप पड़ी बातचीत को शुरू करने का प्रस्ताव दिया है।

बातचीत शुरू करने की जुगत में लगे पाकिस्तान का एक प्रमुख उद्देश्य दोनों देशों के बीच व्यापार के गतिरोध को खत्म करना है। इस समय पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था खस्ताहाल है और उस पर चीन का भारी कर्ज लगातार बढ़ रहा है।

Tags
Back to top button