अंतर्राष्ट्रीय

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सलाहकार असीम बाजवा ने दिया इस्तीफा

चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर के अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे असीम बाजवा

इस्लामाबाद: चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा प्राधिकरण के अध्यक्ष और 28 अप्रैल 2020 के बाद से सूचना और प्रसारण पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के विशेष सहायक के रूप में सेवारत सेवानिवृत्त पाकिस्तानी थ्री-स्टार जनरल लेफ्टिनेंट जनरल असीम सलीम बाजवा ने अपने पद से स्तीफा दे दिया है.

असीम बाजवा पर भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप लगा है. हालांकि, वह चीन-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) के अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे. पाकिस्तानी मीडिया से बात करते हुए असीम बाजवा ने अपने इस्तीफे की पुष्टि की है.

पाकिस्तानी सेना के पूर्व प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल असीम बाजवा के इस्तीफे के चंद घंटे बाद उनकी मीडिया टीम ने भ्रष्टाचार के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. उन्होंने पत्रकार अहमद नूरानी द्वारा हाल ही में प्रकाशित खोजी समाचार रिपोर्ट में बाजवा और उनके करीबी सदस्यों के कथित संपत्तियों और व्यवसायों के बारे में चार पेज का खंडन जारी किया.

असीम बाजवा ने कहा कि उन्होंने अपने परिवार की सलाह के बाद विशेष सलाहकार का पद छोड़ने का फैसला किया. उन्होंने कहा कि मैंने अपनी सारी ऊर्जाएं CPEC में डालने का फैसला किया, क्योंकि हमने सोचा कि वर्तमान में CPEC प्राधिकरण पर बहुत अधिक ध्यान देने की जरूरत है.

इमरान खान के करीबी असीम बाजवा ने कहा कि सरकार के सूचना विंग में कई अन्य योग्य लोग हैं, इसलिए, वह CPEC पर अपना ध्यान केंद्रित रखेंगे. उन्होंने कहा कि CPEC को लेकर एक उत्कृष्ट टीम आकार ले रही थी और पूरा मंत्रिमंडल मल्टी-बिलियन डॉलर की परियोजना पर केंद्रित था.

बेबुनियाद आरोप

भ्रष्टाचार के आरोपों पर असीम बाजवा ने कहा कि मेरे पास संपत्ति को लेकर सभी प्रासंगिक दस्तावेज हैं. एक पाकिस्तानी नागरिक होने के नाते, मैं किसी भी प्लेटफ़ॉर्म पर मनी ट्रेल, दस्तावेज़ या किसी भी तरह के सबूत देने के लिए तैयार हूं. बाजवा ने अपने एक ट्वीट में कहा कि उनके और उनके परिवार के खिलाफ बेबुनियाद आरोप लगाए गए हैं.

क्या है आरोप

फैक्‍ट फोकस वेबसाइट के मुताबिक, असीम बाजवा के परिवार ने उनके सेना में रहने के दौरान और उसके बाद अब तक 99 कंपनियां और 133 रेस्टोरेंट बना लिए हैं. असीम बाजवा और उनके परिवार का साम्राज्य चार देशों में फैला हुआ है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button