पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक का दावा, देश वित्तीय संकट से बाहर हुआ

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक ने दावा किया है कि मित्र देशों की मदद से देश वित्तीय संकट से बाहर आ गया है और अर्थव्यवस्था पटरी पर आ गयी है। स्टेट बैंक आफ पाकिस्तान के गवर्नर तारिक बाजवा का यह बयान ऐसे समय आया है जब सऊदी अरब ने पाकिस्तान में विभिन्न परियोजनाओं में 20 अरब डालर निवेश की घोषणा की है।

अखबार डॉन में छपी खबर के अनुसार बाजवा ने लाहौर में एक निजी विश्वविद्यालय में सोमवार को अपने एक संबोधन में कहा कि अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता का दौर समाप्त हो गया है। सरकार सही रास्ते पर है तथा सभी आर्थिक चुनौतियों से निपटने में सक्षम है।

केंद्रीय बैंक के गवर्नर ने चालू खाते के घाटे के बारे में बात की जिससे चालू वित्त वर्ष के दौरान अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई। प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुवाई वाली नई सरकार के लिये चालू खाते का घाटा एक वास्तविक चुनौती है। खान ने चीन, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मलेशिया तथा तुर्की जैसे मित्र देशों की यात्रा कर घाटे से पार पाने के लिये निवेश और वित्तीय मदद का आग्रह किया था।

बाजवा ने कहा कि चालू खाते के घाटे को समाप्त करने के लिये योजना तैयार की गयी है। उन्होंने कहा कि घाटा देश के लिये सबसे बड़ी बाधा है। सरकार इसे कम करने के लिये पैकेज को लेकर अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के साथ अब भी बातचीत कर रही है। हाल ही में पाकिस्तान ने जीडीपी का लक्ष्य 4 फीसदी किया है।

Back to top button