पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह की इस टिप्पणी को भारत ने बाताया गैरजिम्मेदाराना

नई दिल्ली: पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने टिप्पणी की थी कि भारत 16 से 20 अप्रैल के बीच फिर से पाकिस्तान पर हमला करने वाला है. लेकिन भारत ने इस टिप्पणी को ‘गैरजिम्मेदाराना और निरर्थक’ बताते हुए भारत ने खारिज कर दिया.

इसके बाद पाकिस्तान ने भारतीय उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया को तलब किया और ‘‘किसी भी दुस्साहस’’ को लेकर चेतावनी जारी की. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने तीखे शब्दों में कहा कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री की टिप्पणी का मकसद क्षेत्र में युद्ध उन्माद को बढ़ावा देना है.

कुमार ने एक बयान में कहा, ‘‘पाकिस्तान के विदेश मंत्री द्वारा क्षेत्र में युद्ध उन्माद को बढ़ावा देने के साफ मकसद वाले गैरजिम्मेदाराना और निरर्थक बयान को भारत खारिज करता है. यह हथकंडा पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों को भारत में आतंकी हमला करने के लिए आह्वान है.’ उन्होंने कहा कि भारत को सीमा पार से होने वाले किसी भी आतंकवादी हमले के लिए ‘‘दृढ़तापूर्वक और निर्णायक’’ जवाब देने का अधिकार है.

कुमार ने कहा कि पाकिस्तान को स्पष्ट कर दिया गया है कि वह भारत में सीमा पार से होने वाले आतंकवादी हमले की जिम्मेदारी से खुद को अलग नहीं कर सकता. उन्होंने कहा कि इस तरह के हमलों में अपनी संलिप्तता के लिए बहानेवाजी का कोई प्रयास सफल नहीं होगा. पाकिस्तान को अपने क्षेत्रों से चल रहे आतंकवाद के खिलाफ विश्वसनीय कदम उठाने की जरूरत है.

कुमार ने कहा कि पाकिस्तान को आतंकी हमलों के बारे में किसी भी कार्रवाई योग्य और विश्वसनीय खुफिया जानकारी को साझा करने के लिए स्थापित राजनयिक और सैन्य संचालन महानिदेशक चैनलों का उपयोग करने की सलाह दी गयी है. इस बीच पाकिस्तान ने रविवार को कहा कि उसने भारतीय उप उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया को तलब किया और ‘किसी भी दुस्साहस’’ को लेकर चेतावनी जारी की.

 

Back to top button