महाशिवरात्रि पर 11-12 मार्च को आयोजित होगा पाली महोत्सव, बरगद की छांव में कलेक्टर कौशल ने तय की रूपरेखा

अरविन्द शर्मा:

कोरबा: कलेक्टर किरण कौशल ने पाली के हाई स्कूल मैदान पर बरगद पेड़ की छांव में बैठकर जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ चर्चा कर पाली महोत्सव की रूपरेखा तय की। जिला पंचायत के सीईओ श्री कुंदन कुमार की मौजूदगी में कलेक्टर ने इस आयोजन के लिये सभी जरूरी तैयारियाॅं समय पर पूरी करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। जिला प्रशासन द्वारा महाशिवरात्रि के अवसर पर जिले के ऐतिहासिक स्थल पाली में दो दिवसीय पाली महोत्सव 11 एवं 12 मार्च को शासकीय हाई स्कूल मैदान में आयोजित होगा। इस अवसर पर आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। जिसमें स्थानीय प्रतिभाओं, और कलाकारों को आमंंित्रत किया जायेगा। अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी श्रीमती प्रिंयका महोबिया ने जिला स्तरीय अधिकारियों को विभिन्न जिम्मेदारियाॅं सौंपी। सम्पूर्ण आयोजन के लिये पाली एसडीएम अरूण खलखो को नोडल अधिकारी मनोनित किया गया। कलेक्टर ने इस महत्वपूर्ण बैठक के बाद स्थल भ्रमण किया और अधिकारियों को अपने-अपने विभागों की शासकीय योजनाओं से संबंधित विकासपरक प्रदर्शनी लगाने के भी निर्देश दिये।  

पर्यटन और जिले का पुरातात्विक वैभव होगी थीम – इस बार का पाली महोत्सव जिले के पुरातात्विक वैभव और पर्यटन की थीम पर आयोजित होगा। महोत्सव में शामिल होने वाले लोगों को इस बार कोरबा की ऐतिहासिक और धरोहरों के बारे में जानकारी मिलेगी। उर्जाधानी के रूप में विश्व विख्यात कोरबा के प्राकृतिक पर्यटन स्थलों के आकर्षण से चित्रों और विभिन्न प्रकार के प्रचार माध्यमों से भी लोगों को अवगत कराया जाएगा। चैतुरगढ़, तुमान, सीतामणि, नगोईअकुटेशर, लाफा, सीताचैकी, देवपहरी, सतरेंगा, परसाखोल, बुका से लेकर चामा, केंदई, नकिया जलप्रपात, मड़वारानी, झोराघाट जैसे पुरातात्विक एवं पर्यटन स्थलों की जानकारी इस महोत्सव में लोगों को विस्तार से मिलेगी।

गोबर के गमलों में लगे हर्बल पौधों से होगा अतिथियों का स्वागत – पाली महोत्सव में शामिल होने वाले अतिथियों और कलाकारों का स्वागत इस बार अनुठे तरीके से होगा। फूल-माला या बुके के स्थान पर इस बार जिले के गौठानों में बने गोबर के छोटे-छोटे गमलों में लगे हर्बल पौधों से पाली महोत्सव में शामिल होने वाले अतिथियों का स्वागत किया जाएगा। इसके साथ ही महोत्सव में अपनी आकर्षक सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देने वाले कलाकारों को भी शाॅल-श्रीफल के साथ-साथ गोबर के गमले में लगे हर्बल पौधे भेंट किए जाएंगे। कोरोना के संक्रमण से सीख लेते हुए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और कोरोना से बचने के उपायों को लोगों के ध्यान में लाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा महोत्सव में इस बार यह पहल की जा रही है। गोबर के गमलों में लगे हर्बल औषधीय पौधों को अतिथि एवं कलाकार अपने घरों के बगीचे या गमलों में भी लगाकर रख सकेंगे। महोत्सव के दौरान जिले में जैविक खेती के लिए प्रेरित और आने वाले एक सप्ताह में गौठानों से सर्वाधिक वर्मी कम्पोस्ट लेने वाले किसानों का भी सम्मान किया जाएगा।

कलेक्टर श्रीमती कौशल ने संबंधित विभागों को सौंपी गई जिम्मेदारी को समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने मंच निर्माण, लाईट एवं साउंड व्यवस्था, सांस्कृतिक कार्यक्रम, डेªसिंग रूम व्यवस्था, स्वागत व्यवस्था, आमंत्रण पत्र व्यवस्था, कलाकारों का आमंत्रण, उनके ठहरने एवं भोजन व्यवस्था, कार्यक्रम स्थल पर बिजली, पानी की व्यवस्था, पाली के षिव मंदिर की साज-सज्जा, वाहन व्यवस्था, विभागीय योजनाओं का स्टाल, कार्यक्रम का प्रचार प्रसार, नियंत्रण कक्ष एवं चिकित्सा सुविधा, कानून एवं यातायात व्यवस्था, बांस बल्ली की व्यवस्था, वीडियोग्राफी एवं फोटोग्राफी, संदेशिका, मानदेय, पेयजल, विद्युत, पार्किंग व्यवस्था के संबंध में अधिकारियों द्वारा अब तक किए गये कार्यों की समीक्षा की।

कार्यक्रम स्थल पर आयोजित बैठक में श्रीमती कौशल ने निर्देशित किया कि पाली महोत्सव प्रारंभ होने से पूर्व सभी प्रकार की व्यवस्थायें सुनिश्चित कर ली जाये। बैठक में कार्यक्रम स्थल में प्रवेश हेतु प्रवेश पास, व्हीआईपी पार्किंग, मुख्य मार्ग में यातायात व्यवस्था सुगम बनाने इस मार्ग में चलने वाले भारी वाहनों का रूट डायवर्ट करने के संबंध आवश्यक निर्देश पुलिस विभाग के उपस्थित अधिकारी को दिये। कलेक्टर ने बैठक में निर्देशित किया कि मंच को वाटरपु्रफ एवं दर्शकों के बैठने की व्यवस्था में चांदनी के उपर तारपोलिन लगाई जाये। कलेक्टर ने कार्यक्रम स्थल पर विभिन्न विकास योजनाओं से संबंधित माॅडल तथा विभागीय योजनाओं से संबंधित जानकारी प्रदान करने हेतु निर्देशित किया। उन्होंने निर्धारित समय के पहले आयोजन स्थल पर मंच निर्माण सहित अन्य तैयारियां भी पूरी करने के निर्देश लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को दिए। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि मौसम को ध्यान में रखते हुए मंच तथा विभागीय स्टालों को वाटरपु्रफ तरीके से बनाया जाये। श्रीमती कौशल ने कार्यक्रम स्थल पर नियंत्रण कक्ष की स्थापना करने अधिकारियों को निर्देशित किया। अतिविशिष्ट अतिथियों के पाली महोत्सव में शामिल होने की संभावना को देखते हुए कलेक्टर ने जिला पंचायत के सीईओ के साथ संभावित हैलीपैड स्थल का भी निरीक्षण किया और यहां सुरक्षा संबंधी समस्त तैयारियां भी साथ-साथ पूरी करने के निर्देश दिए।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button