छत्तीसगढ़

प्रदेश के ऐतिहासिक, सामाजिक और सांस्कृतिक ताने बाने से रूबरू हुए पंचायत प्रतिनिधि

रायपुर : हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आए बलरामपुर-रामानुजगंज, जशपुर, सरगुजा एवं सूरजपुर के पंचायत प्रतिनिधि लाइट एंड साउंड शो के जरिए प्रदेश की ऐतिहासिक, सामाजिक और सांस्कृतिक ताने-बाने से रू-ब-रू हुए। नया रायपुर के पुरखौती मुक्तांगन में सुमधुर गीत-संगीत, संवाद, प्रकाश एवं ध्वनि के मेल से सजे प्रभावोत्पादक दृश्यों ने पंच-सरपंचों के सामने छत्तीसगढ़ से जुड़े पौराणिक आख्यानों, इतिहास, पुरातत्व और आजादी की लड़ाई में यहां के सेनानियों की भूमिका को जीवंत किया।
प्रदेश की संस्कृति, लोकगीतों और लोकनृत्यों की छटा बिखेरती लाइट एंड साउंड शो ने छत्तीसगढ़ के पृथक राज्य बनने की कहानी, पिछले 15 वर्षों में हुए विकास, प्रदेश की उपलब्धियों, सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं और कार्यक्रमों से भी पंचायत प्रतिनिधियों को परिचित कराया। बलरामपुर, जशपुर, सरगुजा एवं सूरजपुर के जनप्रतिनिधियों के साथ पूर्व संसदीय सचिव एवं विधायक सिद्धनाथ पैकरा ने भी लाइट एंड साउंड शो का आनंद लिया। राज्य शासन के हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत चारों जिलों के करीब 600 पंच-सरपंच दो दिनों के अध्ययन प्रवास पर राजधानी रायपुर आए हुए हैं। इनमें बलरामपुर के 160, सूरजपुर के 156, सरगुजा के 151 और जशपुर के 125 पंचायत प्रतिनिधि शामिल हैं।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.