कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, जताई ये उम्मीद

2017 में कांग्रेस के साथ मिलकर बीजेपी को दी थी टक्कर

नई दिल्ली: आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पातिदार नेता हार्दिक पटेल की कांग्रेस में शामिल होने की आशंका जताई जा रही है. जिस प्रकार उसने साल 2017 में हुए गुजरात विधानसभा चुनाव में हार्दिक पटेल ने कांग्रेस का समर्थन किया और हार्दिक पटेल का साथ मिलने से कांग्रेस ने राज्य के चुनाव में बीजेपी को कड़ी टक्कर दी थी.

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक

उसके बाद यह उम्मीउद जताई जा रही है कि हार्दिक कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की बैठक के बाद हार्दिक कांग्रेस ज्वाइन कर सकते हैं. और गुजरात की जामनगर सीट से वे लोकसभा का चुनाव लड़ सकते हैं.

हार्दिक पटेल ने किया था एलान

बता दें कि इससे पहले खुद हार्दिक पटेल ने एलान किया था कि वह आगामी लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. हालांकि, हार्दिक ने यह नहीं बताया था कि वह किसी राजनीतिक दल में शामिल होंगे या निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेंगे.

कांग्रेस में शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर हार्दिक पटेल ने कहा कि वह इस बारे में बाद में फैसला करेंगे. कहा तो यह भी जा रहा था कि हार्दिक पटेल वाराणसी से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनावी मैदान में उतर सकते हैं.

कांग्रेस के साथ हार्दिक पटेल की करीबी गुजरात विधानसभा चुनाव में देखने को मिली. था. हार्दिक पटेल का साथ मिलने से कांग्रेस ने राज्य के चुनाव में बीजेपी को कड़ी टक्कर दी थी. कांग्रेस ने गुजरात विधानसभा की 182 सीटों में से 77 सीटों पर जीत दर्ज की थी, हालांकि वह सरकार बनाने में कामयाब नहीं हो पाई.

25 साल के हार्दिक, पटेल समुदाय से आते हैं. पटेल समुदाय को गुजरात का सबसे संपन्न और मजबूत वर्ग माना जाता है. गुजरात की कुल जनसंख्या में लगभग 15 फ़ीसदी आबादी पटेलों की है. हार्दिक गुजरात की राजनीति में अपनी ताकत दिखा चुके हैं.

1993 में जन्मे हार्दिक पटेल ग्रेजुएट हैं और उनके पिता बीजेपी के कार्यकर्ता रहे हैं. हार्दिक ने जब पाटीदार आरक्षण की हुंकार भरी तो उनकी एक आवाज पर लाखों लोग सड़कों पर उतर आए. पाटीदार समुदाय के लोगों ने आरक्षण की मांग करते हुए पूरे राज्य में आंदोलन चलाया था. इसके नेता हार्दिक पटेल को हिरासत में लेने के बाद हिंसा भड़क उठी थी. इसमें कुछ लोगों की मौत भी हो गई थी. इस आंदोलन में बड़े पैमाने पर तोड़फोड़ और आगज़नी की घटनाएं हुई थीं.

Back to top button