पटना : अनोखी शादी, दूल्हा नही दुल्हन लेकर गयी बारात

शादियों में दूल्हों का दुल्हनों के घर बारात लेकर पहुंचने का रिवाज है लेकिन बिहार में हुई एक अनोखी शादी काफी चर्चा में है. दरअसल यहां एक लड़की ही बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंच गई.

शादियों में दूल्हों का दुल्हनों के घर बारात लेकर पहुंचने का रिवाज है लेकिन बिहार में हुई एक अनोखी शादी काफी चर्चा में है. दरअसल यहां एक लड़की ही बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंच गई. यह कोई ड्रामा नहीं बल्कि दोनों परिवारों की सहमति से महिला सशक्तिकरण को लेकर दिया गया एक संदेश है.

बैंक अधिकारी लड़की और दूल्हा नौसेना अधिकारी

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

पटना से सटे मनेर में बैंक अधिकारी स्नेहा अपनी बारात लेकर दूल्हे के घर पहुंच गई. दूल्हा भी भारतीय नौसेना में अधिकारी के तौर पर कार्यरत है. दोनों परिवार मुंबई में रहते हैं और वहीं दोनों की सगाई हुई थी. मनेर की बेटी स्नेहा जब अपनी बारात लेकर निकली तो लोग दंग रह गए. स्नेहा दुल्हन बनी हुई थी और अपनी बहनों के साथ बग्घी पर सवार होकर अपने दूल्हे के घर जा रही थी तो हर कोई उनकी एक झलक पाने के लिए बेताब था. मनेर से चलकर बारात दानापुर के सैन्य छावनी स्थित गेस्ट हाउस पहुंची. स्नेहा के पिता मुंबई में नौसेना अधिकारी हैं. स्नेहा तीन बहने हैं और उनके कोई भाई नहीं है. स्नेहा के पिता विनोद कुमार राय भारतीय नौसेना के अधिकारी हैं. मनेर टोला की रहने वाली स्नेहा की सगाई मुंबई में ही हुई थी. स्नेहा के पति अनिल कुमार यादव मुंबई में भारतीय नौसेना में ही कार्यरत हैं. स्नेहा के पिता ने वहीं अनिल को बतौर दामाद पसंद किया और फिर दोनों की सगाई वहीं कर दी गई. सगाई में ही तय हुआ था कि लड़की ही बारात लेकर दूल्हे के घर जाएगी

मनेर की स्नेहा जब अपने पति को लाने के लिए बारात लेकर निकली तो हर कोई खुशी से फूले नहीं समा रहा था. स्नेहा की दोनों बहनें भी काफी पढ़ी-लिखी हैं. स्नेहा की दूसरी बहन विनीता एमबीबीएस कर रही है जबकि तीसरी बहन फैशन डिजाइनिंग में है. लड़की के पिता विनोद राय ने बताया कि उनका कोई बेटा भले ना हो लेकिन बेटियों को ही हमेशा उन्होंने बेटे की तरह मान दिया है. पिता विनोद राय की मानें तो यह कोई दिखावा नहीं बल्कि लड़कियों को लड़कों के सामान दिखाने का एक संदेश था और इसीलिए तय हुआ था कि उनकी बेटी बारात लेकर दूल्हे के घर जाएगी

स्नेहा के लिए जिस दूल्हे की तलाश हुई थी वह मूलतः मधुबनी के रहने वाले हैं. मधुबनी के जयनगर निवासी अनिल कुमार यादव भारतीय नौसेना में कार्यरत हैं और वहीं पर उनकी जान पहचान स्नेहा के पिता विनोद राय से हुई थी. परिवार के लोगों ने बताया कि दोनों परिवारों की सहमति से ही यह अनूठी शादी तय हुई थी.

Back to top button