पत्रकार मनीष शर्मा को पटवारी ने दी धमकी, खतरे में लोकतंत्र का चौथा स्तंभ

मनीष शर्मा:

बिलासपुर: एक अनुभवी पत्रकार को उसके निष्पक्ष पत्रकारिता का यह परिणाम मिलेगा, यह कांग्रेस शासन में ही देखने को मिल रहा है । कोई पत्रकार भले ही ना सोचे लेकिन ये मौजूदा दौर की सच्चाई है, अगर आप निष्पक्ष होकर पत्रकारिता करते हैं तो कुछ अभद्र लोग आप के ख़िलाफ़ ऐसे ही साजिश रचेंगे, इसमें कोई अतिशयोक्ति वाली बात नहीं ।वरिष्ठ पत्रकार मनीष शर्मा इस बात को बेहतर जानते हैं ।

सोशल मीडिया के माध्यम से लगातार धमकियां

उन्होंने बताया की उन्हें एक पटवारी से सोशल मीडिया के माध्यम से लगातार धमकियां मिल रही है। हालांकि उन्होंने ने किसी पटवारी का नाम नहीं लिया, लेकिन साफ तौर पर कह दिया है कि मैं ऐसी धमकियों से डरने वाले नहीं हूँ ,मुझे आदत हो गयी है ऐसे लोगो के ख़िलाफ़ रिपोर्टिंग करने की। मैं आगे भी ऐसे असामाजिक तत्वों, के खिलाफ रिपोर्ट बनाते रहूंगा ।

वे इस धमकी के पीछे उन भ्रष्ट राजस्व अधिकारियो को दोषी मानते है,जिन्हें उन्होंने अपने लेखनीय के दम पर बेनकाब किया है। उन्होंने thenewdunia.com को बताया कि कुछ राजस्व अधिकारी पैसा लेकर शासकीय भूमि के दस्तावेज में छेड़छाड़ कर भूमाफिया के नाम पर चढ़ा दिए हैं , जो आने वाले समय में छत्तीसगढ़ सरकार के लिए खतरे की घंटी बनेगी ।ऐसे भ्रष्ट राजस्व अधिकारी,पटवारी अपने क्षेत्र का माहौल ख़राब करने का काम करते हैं ।

इन्हें किसी का डर नहीं, गलत तरीके से पैसा कमा कर अपने आकाओं तक उनका हिस्सा पहुंचा देते हैं औऱ इसी तरह से अपने गलत काम को अंजाम देते हैं , इनके पीछे सफेद पोस का भी हाथ होता है। लेकिन सवाल वहीं है की निष्पक्ष पत्रकारिता का यह भी एक दुष्परिणाम है।

बता दें बिलासपुर के कुछ विवादित राजस्व अधिकारियों, पटवारियों की शिकायतें लगातार मुख्यमंत्री निवास में हो रही है बावजूद अपने अपने राजनैतिक आकाओ के रहमोकरम से लंबे समय से यहां जमे हुए है। कुछ अधिकारियों, पटवारियों द्वारा तो कुछ लोगो के नाम की आड़ में जमीन भूमाफियाओं के साथ साठगांठ कर बिलासपुर शहर के कई इलाकों में अवैध कालोनियां, प्लाट विक्रय किया जा रहा है।

Tags
Back to top button