Pea Protein Milk: आयरन की कमी होती है पूरी और तेजी से घटाता है वजन!

मांसाहार के मुकाबले शाकाहार भोजन में प्रोटीन के स्त्रोत सीमित होते हैं। दूध, पनीर, सोयाबीन, हरी सब्जियां आदि खाद्य पदार्थों के जरिए प्रोटीन की पूर्ति की जाती है

हेल्थ: लेकिन कुछ लोग को ‘लैक्टोज इन्टोलेरेंट’ की समस्या होती है। जिसमें दूध से बनी चीजें, पनीर और डेयरी प्रॉडक्ट्स पचाने में परेशानी होती है और इससे डायरिया भी हो सकता है। ऐसा व्यक्ति पी प्रोटीन यानि मटर के दूध से प्रोटीन का कमी को पूरा कर सकता है।

कैसे बनता है पी प्रोटीन
मटर का दूध बनाने के लिए इसके दानों को सुखाकर पीसकर बारीक पाउडर बनाया जाता है। इसके बाद इसमें पानी की मदद से पेस्ट बनाकर स्टार्च और फाइबर निकाला जाता है। फिर दोबारा इस पेस्ट को सुखाकर पाउडर बनाया जाता है। इस पी प्रोटीन को दूध में मिलाकर पीने से प्रोटीन, विटामिन व मिनरल्स की कमी पूरी हो जाती है। जिन लोगों को दूध पचाने की परेशानी है वे इस पाउडर को पानी में मिलाकर भी पी सकते हैं।

आयरन का अच्छा स्त्रोत
पी प्रोटीन मिल्क वेजीटेरियन लोगों के लिए आयरन का बहुत अच्छा स्त्रोत है। इसमें मिनरल्स,विटामिन ए, ई, डी के अलावा जरूरी पोषक तत्व शामिल होते हैं।

प्रोटीन की कमी पूरी
यह मिल्क ग्लूटन फ्री होने के साथ-साथ प्रोटीन का बहुत अच्छा स्त्रोत है। 1 गिलास दूध में 2 चम्मच पी प्रोटीन का पाउडर मिलाकर पीने से फायदा मिलता है।

भरा रहता है पेट
इस दूध में अमीनो एसिड की अनुपात संतुलित होती है। इसका सेवन करने से बहुत देर तक भूख का अहसास नहीं होता और इससे पेट की गैस या ब्लोटिंग की परेशानी होती है। जबकि दूध या दूध से बने पदार्थ का सेवन करने से इस तरह की दिक्कतें आ सकती हैं।

वजन घटाने में मददगार
बढ़े हुए वजन से परेशान लोगों के लिए इस दूध का सेवन बेस्ट है। प्रोटीन युक्त पी प्रोटीन का सेवन करने से मसल्स बिल्डअप होने के साथ-साथ तेजी से वजन घटता है।

जिन लोगों को हमेशा फूड क्रेविंग का अहसास होता है उनके लिए यह मिल्क बहुत उपयोगी है। बार-बार लगने वाली भूख को नियंत्रित करके यह आसनी से वजन घटाने का काम करता है।

Back to top button