छत्तीसगढ़राजनीति

जनता ने किया है भाजपा के 15 वर्षों के ब्लैक प्रिंट का हिसाब: रविन्द्र चौबे

चौबे ने कहा कि रमन सरकार में 3 हजार किसानों ने आत्महत्या की

रायपुर: प्रदेश के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने प्रेसवार्ता में आज राज्य सरकार की उपलब्धियाँ गिनाने से पहले 15 वर्षों तक भाजपा शासन काल में क्या-क्या हुए उन कार्यों और घटनाओं को गिनाया.

रविन्द्र चौबे ने कहा कि क्या भूल गए झीरमकांड ? क्या झलियामारी दुष्कर्म भूल गए ? क्या सारकेगुड़ा भूल गए ? मीना खलखो का रेपकांड भूल गए ? क्या आदिवासी बालिका की हत्या भूल गए ? क्या मुन्ना भाई प्रकरण भूल गए ?

क्या मुन्नी बाई प्रकरण भूल गए ? क्या नसंबदी कांड भूल गए ? ऐसे अनेक ऐसे प्रकरण रहे हैं, क्या भाजपा नेताओं को ये याद नहीं ? क्या रमन सिंह अपने कार्यकाल में लगे इन दागों को भूल गए ?

चौबे ने कहा कि रमन सरकार में 3 हजार किसानों ने आत्महत्या की. शराबबंदी के नाम पर कमीशनखोरी हुई. एमओयू के नाम जमीनें बेची गई. यहाँ तक विदाई से पहले सेक्स सीडी का स्कैंडल भी लेकर आए. पहले इन सभी मामलों में जवाब दें, फिर हमारी सरकार से हिसाब मांगें.

उन्होंने कहा भाजपा के 15 वर्षों के ब्लैक प्रिंट का हिसाब जनता ने किया है. किस तरह से बीजेपी शासन में छत्तीसगढ़ में घोटाले हुए, भ्रष्टाचार हुए, कमीशनखोरी हुई, किसानों ने, बेरोजगारों ने आत्महत्याएं की, नक्सल की बड़ी-बड़ी घटनाएं हुई, कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की हत्या हुई, छल-कपट-धोखा हुआ. सभी का हिसाब आज भी प्रदेश की जनता के पास है.

और जनता के पास भूपेश सरकार के 18 महीनों के काम-काज का हिसाब भी है. जनता के पास हमारा ब्लू प्रिंट है. और भाजपा है कि ये पूछ रही है कि सरकार ने जो ब्लू प्रिंट तैयार किया था वो कहाँ है. ये कहना है कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे का.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button