गलत तरीके से ऊंचे से ऊंचे दामों में सब्जी का क्रय-विक्रय कर रहे लोग

महामारी कानून का उल्लंघन करने से भी बाज नहीं आ रहे है कोचिए

रायपुर: राजधानी में लॉकडाउन के चलते सब्जियों की आवक बंद है मगर लोग अवैध कारोबार करने से बाज नहीं आ रहे है। इस वजह से मार्केट में सब्जियों का दाम बढ़ गया है, और लोग अपने अपने घरों से सब्जियां बेच रहे है। सब्जियों के दाम बढऩे से लोगो के घर का बजट गड़बड़ा गया है।

टमाटर पिछले महीने 10 से 20 रुपए किलो में बिक रहा था, अब उसकी कीमत अब 40 से 50 रुपए किलो तक पहुंच गई है, 20 रुपए किलो बिकने वाली प्याज की कीमत अब 35 से 40 रुपए तक पहुंच गई है, इसी तरह लहसून 100 रुपए से 150 रुपए प्रति किलो के भाव से बाजार में मिला रहा है, यही हाल बाकी सब्जियों का भी है, जिससे आम लोग अब कम सब्जियां लेकर ही काम चला रहे है।

टमाटर पहले 20 अब 30-40 रुपए

टमाटर पहले 20 अब 30-40 रुपए हो गए। भिंडी पहले 20 अब 30 रुपए किलो हो गए है। उसी तरह से मिर्च पहले 30 अब 40, बैंगन पहले 20 अब 35, लहसून पहले 100 अब 150, शिमला मिर्च पहले 40 अब 45, परवल पहले 30 अब 40, करेला पहले 40 अब 60, बड़ी मिर्च पहले 60 अब 100, गोभी पहले 30 अब 50, बरबटी पहले 30 अब 60, प्याज 20 अब 60 रुपए किलों बिकने लगे है। शहर में इन दिनों लॉकडाउन के चलते सब्जी भाजी के दाम बेलगाम हो चले हैं।

विक्रेता मनमुताबिक दाम पर सब्जी बेच रहे हैं। महंगाई के इस दौर में शहर का सब्जी बाजार अलग हिसाब से चल रहा है। कहीं रेट ज्यादा है तो कहीं कम। इससे आम लोगों के किचन का बजट बिगड़ रहा है। विक्रेता बस्ती के हिसाब से सब्जी के दाम तय कर रहे हैं।

विभिन्न इलाकों का मिजाल अलग-अलग है। अमापारा स्थित बाजार में टमाटर 25 रुपये किलो तो टिकरापारा सब्जी बाजार में 20 रुपये किलो। 5 से लेकर 20 रुपये अधिक तक इसकी बिक्री शहर में हो रही है। शहर के अलग-अलग हिस्सों में अन्य सब्जियों के दाम का भी यही हाल है।

शहर के इन इलाकों में बिक रही सब्जिया :

शहर में लगे लॉकडाउन की वजह से सब्जी के विक्रेता अपने-अपने घरों से सब्जी बेच रहे है। ऐसे इलाके इसमें शामिल है जो की कुछ इस तरह है। समता कालोनी, चौबे कालोनी, राजातालाब, रामकुंड, मंगलबाजार, आज़ाद चौक, शंकर नगर, लालपुर, सिचाई कालोनी, मोवा, सड्डू, खम्हारडीह, तेलीबांधा, नेहरू नगर, टिकरापारा और शहर के हर गली मोह्हलों में सब्जी बिक रहा है।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button