राष्ट्रीय

12 साल बाद पेप्सीको के सीर्इआे पद से इस्तीफा देंगी इंदिरा नूर्इ

3 अक्टूबर को छोड़ देंगी सीर्इआे का पद

नई दिल्ली। विश्व की जानीमानी शीतल पेय पदार्थ बनाने वाली कंपनी पेप्सी यानी पेप्सीको की सीर्इअो इंदिरा नूर्इ 12 साल के बाद अपने पद से इस्तीफा दे रही हैं। इंदिरा नूर्इ पेप्सीको के इतिहास की पहली भारतीय मूल की महिला सीर्इआे थी। इंदिरा नूई की जगह कंपनी के मौजूदा प्रेसिडेंट रामोन लगूर्टा नए CEO बनाएं जाएंगे। सोमवार को पेप्सिको की आेर से जानकारी जारी की गई है।

2019 तक बनी रहेंगी पेप्सिको की चेयरपर्सन
पेप्सीको की आेर से दी गर्इ जानकारी के अनुसार इंदिरा नूई 3 अक्टूबर को सीर्इआे का पद छोड़ देंगी। इसके बावजूद वो 2019 तक कंपनी के बोर्ड के चेयरपर्सन के पद पर बनी रहेंगी। आपको बता दें कि इंदिरा नूर्इ ने कंपनी को नए मुकाम तक पहुंचाने में बड़ी सफलता हासिल की है।

इंदिरा का भावुकता भरा बयान
इंदिरा नूई की आेर से जारी बयान में उन्होंने कहा कि पेप्सीको का नेतृत्व उनके जीवन का सबसे बड़ा सम्मान है। 12 साल तक कंपनी, शेयरहोल्डर्स और सभी संबंधित पक्षों के हितों में काम करने का मुझे गर्व है। इंदिरा नूई के नेतृत्व में पेप्सीको ने कई बड़े बदलाव देखे। यहां तक कि पेप्सीको में हुए तमाम प्रयोगों का श्रेय उन्हें ही दिया जाता रहा है।

दक्षिण भारत के इस शहर में हुआ था उनका जन्म
इंदिरा नूई का पूरा नाम इंदिरा कृष्णमूर्ति नूई है। उनका जन्म 28 अक्टूबर 1955 को चेन्नई में हुआ था। उन्होंने 1976 में कोलकाता स्थित इंडियन इंस्टिड्यूट ऑफ मैनेजमेंट से पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा किया और उसके बाद अमेरिकी हेल्थकेयर कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन में नौकरी की। नूई ने 1994 में पेप्सीको को ज्वाइन किया था। इसी कंपनी में 2001 में उन्हें चीफ फाइनेंस आॅफिसर के पद पर प्रमोशन दिया गया। इंदिरा नूई को पेप्सीको का CEO अक्टूबर 2006 में नियुक्त किया गया था। इस पद पर वह लगभग 12 साल से बनी हुई हैं। साल 2015 में नूई को फॉर्चून की लिस्ट में दुनिया की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में दूसरा स्थान दिया था।