पालतू बिल्ली ने कोबरा से अपने मालिक के परिवार को खतरे से बचाया

जब परिदा के घर के पास कोबरा दिखा तो उनकी बिल्ली चीनू तुरंत एक्शन में आई

भुवनेश्वर: ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में एक पालतू बिल्ली ने अपने मालिक के प्रति वफादारी दिल्खाते हुए उसके परिवार को बहुत बड़ी मुसीबत से अपनी बहादुरी और इमानदारी का परिचय दिया है.

दरअसल शहर में एक पालतू बिल्ली ने कोबरा को अपने घर में घुसने से रोककर अपने मालिक के परिवार को खतरे से बचाया. घटना शहर के भीमतंगी इलाके की है, जहां संपद कुमार परिदा और उनका परिवार और उनकी पालतू बिल्ली चीनू रहते हैं.

मंगलवार की दोपहर जब परिदा के घर के पास कोबरा दिखा तो उनकी बिल्ली चीनू तुरंत एक्शन में आ गई. परिदा ने चीनू को घर के पीछे की ओर भागते देखा. उसने बिल्ली का पीछा किया और देखा कि बिल्ली चार फुट लंबे कोबरा के सामने डटकर खड़ी है और उसे घर में आने से रोक रही है. उन्होंने बताया कि दोनों में इस दौरान लड़ाई होने लगी.

30 मिनट कर कोबरा से लड़ती रही बिल्ली

इसके बाद संपदा ने तुरंत मदद के लिए स्नेक हेल्पलाइन पर कॉल किया. हेल्पलाइन के स्वयंसेवक अरुण कुमार बराल मौके पर पहुंचे और देखा कि बिल्ली घर की रखवाली कर रही है और करीब 30 मिनट तक कोबरा को अंदर जाने से रोकने की कोशिश कर रही है. इसके बाद अरुण ने बिल्ली को वहां से भगाया और तुरंत कोबरा को रेस्क्यू कर लिया.

मालिकों के सबसे अच्छे रक्षक साबित हो रहे जानवर

अरुण ने बताया कि जब तक वह बचाव के लिए नहीं आए, तब तक पालतू बिल्ली सांप को रोकने के लिए पहरा देती रही. लड़ाई आधे घंटे तक चली लेकिन सौभाग्य से, उनमें से कोई भी घायल नहीं हुआ.

स्नेक हेल्पलाइन के महासचिव शुभेंदु मलिक ने कहा कि कोबरा को शहर के बाहर जंगल में छोड़ दिया गया है. उन्होंने कहा कि उन्होंने बिल्ली के शरीर की अच्छी तरह से जांच की और कोई नुकीला निशान नहीं मिला. उन्होंने कहा कि ऐसा अक्सर देखा गया है कि पालतू जानवर अपने मालिकों के सबसे अच्छे रक्षक साबित हो रहे हैं.

2019 में खुर्दा जिले के जांला गांव में एक पालतू कुत्ते ने अपने मालिक के परिवार को जहरीले सांप से बचाने के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया था. उसी साल राजधानी शहर के बडगड़ा क्षेत्र में एक और पालतू कुत्ते ने अपने मालिक के परिवार को बचाने के लिए एक कोबरा से लड़ाई की थी. मलिक ने कहा कि बिल्ली और कुत्ते बहुत वफादार पालतू जानवर हैं, जो अपने मालिक के परिवार की रक्षा के लिए अपनी जान जोखिम में डालने से नहीं हिचकिचाते.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button