अंतर्राष्ट्रीय

फार्मा कंपनी का दावा, कोरोना से बचाव में कारगर साबित होगा यह बेशकीमती मास्क

मास्क में 36 हजार काला, सफेद हीरे का किया जाएगा इस्तेमाल

इजराइल: इजराइल में 36 हजार काला, सफेद हीरे का इस्तेमाल से 18 कैरट सोने का बेशकीमती मास्क तैयार किया जा रहा है. एक ग्राहक की मांग को पूरा करने के लिए बेशकीमती मास्क बनाया जा रहा है.

फार्मा कंपनी का दावा है कि कोरोना वायरस से बचाव में मास्क कारगर साबित होगा. इसकी कीमत 15 लाख डॉलर रखी गई है. सोने के मास्क में हीरे भी जड़े होंगे. इसके अलावा N-99 फिल्टर भी लगाया जाएगा.

डिजाइनर इस्साक लेवी का कहना है कि एक ग्राहक की मांग को पूरा करने के लिए बेशकीमती मास्क बनाया जा रहा है. उन्होंने खरीददार की पहचान उजागर करने से मना कर दिया. लेकिन इतना जरूर बताया कि महंगे मास्क का खरीददार अमेरिका का एक चीनी उद्योगपति है.

फार्मा कंपनी यवेल के मालिक लेवी ने कहा कि उसकी दो और मांगें थीं. पहली शर्त के मुताबिक मास्क विश्व का सबसे महंगा होना चाहिए. दूसरी शर्त उसने साल के अंत तक तैयार करने की रखी थी. उन्होंने कहा, “मैं खुश हूं कि मास्क बनाने का जिम्मा बेहद चुनौतीपूर्ण समय में मेरे कर्मचारियों को मिला.”

गुरुवार को इजराइल ने दावा किया कि महामारी के इलाज के लिए वैक्सीन निर्माण में जल्द ही उसके हाथ सफलता लग सकती है. वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावी होने के लिए शुरू किया जानेवाला परीक्षण शरद ऋतु की छुट्टियों के बाद हो सकता है. इजराइल ने संकेत दिया है कि वैक्सीन का ट्रायल मनुष्यों पर भी किया जा सकता है. गौरतलब है कि सोशल डिस्टेंसिंग समेत मास्क कोरोना संक्रमण से बचाव का कारगर उपाय है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button