आधी सैलरी पर स्पाइसजेट ज्वाइन कर रहे जेट ऐयरवेज के पायलट और इंजीनियर

नई दिल्ली। जहां एक तरफ जेट एयरवेज की खराब आर्थिक हालत से उबरने की कोशिश में हैं तो वहीं दूसरी तरफ इसकी प्रतिद्वंद्वी कंपनी स्पाइसजेट इस मौके को पूरी तरह भुनाने में लगी है। एक रिपोर्ट के अनुसार, जेट एयरवेज के इंजीयनियरों व पायलटों को स्पाइसजेट बेहद कम वेतन पर नौकरी देने का प्रस्ताव दे रही है। खबर के अनुसार पायलटों को जेट ऐयरवेज में उनके पैकेज से 30 फीसदी तक कम वेतन ऑफर किया जा रहा है। वहीं इंजीनियरों को 50 फीसदी तक पैकेज पर नौकरी देने की बात कही जा रही है।

पायलटों व इंजीनियरों को नहीं मिल रहे अच्छे ऑफर

कुछ समय पहले तक स्पाइसजेट व अन्य कंपनियां इन्हीं पायलटों व इंजीनियरों को बेहतर पैकेज के साथ कई तरह के भत्ते व बोनस का भी ऑफर कर रही थीं। जेट ऐयरवेज के कर्मियों में यह डर बना हुआ है कि कहीं कंपनी बंद हो गई तो उनका क्या होगा। ऐसे में वो कम पैकेज पर भी कंपनी बदलने को तैयार हो रहे हैं। विमानन उद्योगों के कुछ जानकारों का मानना है कि जेट एयरवेज के कर्मचारियों को इंडस्ट्री के औसत की तुलना में कुछ अधिक अच्छे पैकेज मिल रहे थे।

वर्तमान पैकेज से कम का मिल रहा ऑफर

खबरों के अनुसार वर्तमान समय में सीनियर एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस इंजीनियर को जेट ऐयरवेज में जहां 04 लाख तक का पैकेज मिल रहा था। इन्हें स्पाइसजेट में 1.50 से 2 लाख रुपए तक का पैकेज ऑफर किया जा रहा है। हालांकि जेट ऐयरवेज के कर्मियों को अभी भी उम्मीद है कि शायद कंपनी को जल्द ही निवेशक मिल जाएंगे और उनकी नौकरियां सुरक्षित बनी रहेंगी।

जेट ऐयरवेज के कर्मियों को अभी भी है उम्मीद

खबरों के अनुसार विमानन कंपनियां जेट के पायलटों से नौकरी देने के साथ ही तीन से पांच साल का कांट्रेक्ट करने का भी ऑफर कर रही हैं। जिसे पायलट स्वीकार नहीं करना चाहते। जेट ऐयवरेज के एक वरिष्ठ पायलट के अनुसार जेट ऐयरवेज में कर्मचारियों को समय पर वेतन न मिलने से लोगों की मुश्किल बढ़ रही है। कर्मचारियों की अपनी हर महीने की किश्तें हैं अन्य खर्च हैं इन सब के चलते नौकरी बदलने का दबाव बढ़ रहा है। हालांकि अब भी ज्यादातर कर्मियों ने नौकरी नहीं छोड़ने का मन बनाया है।

1
Back to top button