निर्धारित तिथि में ग्राम पंचायत में फिल्ड के स्टाॅफ की उपस्थिति सुनिश्चित करायें: कलेक्टर

हितेश दीक्षित:

गरियाबंद: कलेक्टर श्याम धावडे़ ने कलेक्टोरेट सभा कक्ष में आयोजित समय सीमा की बैठक में सभी विभाग के कार्यों की विस्तार से समीक्षा की। धावडे़ ने कहा कि ग्राम पंचायत में ग्राम सचिवालयों को सक्रिय बनायें तथा निर्धारित तिथि में वहां फिल्ड के स्टाॅफ की उपस्थिति सुनिश्चित करायें, इससे गांव में ही ग्रामीणों की अनेक समस्याओं का तत्काल समाधान हो जायेगा।

ग्रामीणों को योजनाओं और सेवाओं की जानकारी

साथ ही ग्रामीणों को शासन की योजनाओं और सेवाओं की भी अच्छी तरह जानकारी दें, ताकि वे आवश्यकता पड़ने पर इनका लाभ उठा सकें। धावडे़ ने कहा कि पटवारी और ग्राम पंचायत सचिव भी निर्धारित दिवस पर अपने-अपने मुख्यालयों में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहे। बैठक में अपर कलेक्टर के.के. बेहार, जिला पंचायत सीईओ आर.के. खुटे, संयुक्त कलेक्टर अमृत लाल ध्रुव, जे.आर. चाैरसिया और विभिन्न विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर धावडे़ ने सभी विभाग के जिला अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि योजनाओं, समस्याओं और शासकीय सेवाओं के संबंध यदि आमजन कार्यालयों में आते हैं, तो अधिकारी उनसे अवश्य मिले, उनकी समस्याओं को सुनें और नियमानुसार त्वरित रूप से निराकृत भी करें।

यदि किसी की मांग के अनुसार शासन में प्रावधान नहीं है, तो इसकी भी स्पष्ट जानकारी आवेदक को दे। आमजनों से हमेशा अच्छा व्यवहार करें, उन्हें यह लगना चाहिए कि प्रशासन उनकी सुविधा के लिए है।

विभाग प्रशासनिक व्यवस्था को और अधिक बेहतर

धावडे़ ने कहा कि सभी विभाग प्रशासनिक व्यवस्था को और अधिक बेहतर बनाये। लोक सेवा केन्द्रों में प्राप्त आवेदनों का समय पर गुणवत्ता पूर्वक कारगर ढंग से समाधान किया जाये, दस्तावेजों की कमी हो तो जितना जल्दी हो सके आवेदक से प्राप्त कर आवेदन का निराकरण सुनिश्चित करें।

धावडे़ ने कहा कि नरवा, घुरवा,गरवा और बाड़ी के विकास के लिए प्रत्येक जनपद में पांच-पांच ग्राम पंचायतों को चिन्हांकित कर सूची उपलब्ध कराये। धावडे़ ने कहा कि सुपेबेड़ा में पेयजल एवं अन्य जरूरी सेवाओं की उपलब्धता का विशेष ध्यान रखें।

सुपेबेड़ा में पानी की आपूर्ति के लिए प्रस्ताव

पीएचई विभाग तेल नदी से सुपेबेड़ा में पानी की आपूर्ति के लिए एक सर्वे कर प्रस्ताव तैयार करें। उन्होंने नरवा के विकास के लिए सिंचाई विभाग को नरवा समिति गठित करने के निर्देश भी दिये हैं। धावडे़ ने जनपदवार नरवा बंधान और गौठानों की स्थिति की समीक्षा कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये ।

धावड़े ने विभिन्न विभागों में लंबित विभागीय जांच के प्रकरणों की समीक्षा करते हुए उन्हें समयावधि में निराकृत करने के निर्देश दिये, उन्होंने कहा कि अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों को भी अनावश्यक रूप से लंबित न रखा जाए।

स्वास्थ्य विभाग जिले में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाये और निष्टीगुड़ा में भी सब हेल्थ सेंटर को ठीक करायें। धावड़े ने कहा कि वन्य प्राणियों को ध्यान में रखते हुए उनके लिए जगह-जगह जंगल में कंद एवं फल वाले बीज लगाये, ताकि फल और कंद लगने पर वन्य प्राणी उनका सेवन कर सके।

धावड़े ने कहा कि प्री एवं पोस्ट मैट्रिक छात्रावासों में बच्चियों को उनकी आवश्यकतानुसार सेनिटरी नेपकिन उपलब्ध कराये। सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग द्वारा बताया गया कि जिले के कन्या छात्रावासों में पर्याप्त सेनीटरी नेपकिन उपलब्ध है। इनके अलावा कलेक्टर धावड़े ने वन अधिकार मान्यता पत्र, पलायन की स्थिति एवं धान खरीदी सहित विभिन्न विषयों की समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिये।

1
Back to top button