राष्ट्रीय

मन की बात: हमारे जवान बॉर्डर पर ही नहीं, दुनिया भर में शांति स्थापित कर रहे हैं

मन की बात के 37वें संस्करण में पीएम मोदी ने पीएम मोदी ने छठ पर्व पर शुभकामनाएं दीं और कहा, छठ पर्व शुद्धि का पर्व है. पीएम ने सुरक्षा बलों के साथ दिवाली बनाने को लेकर कहा कि यह अविस्मरणीय रहा.

जब हमें अवसर मिले हमें उनके अनुभव जानने चाहिए. हममें से कई लोगों को पता नहीं होगा कि हमारे जवान न सिर्फ बॉर्डर पर बल्कि विश्व भर में शांति स्थापित करने में भूमिका निभा रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारे जवान दुर्गम इलाकों में जाते हैं और कई जवानों ने जान गंवाई है.

सिस्टर निवेदिता को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने दुनिया भर में देश का नाम रोशन किया. 1899 में जब प्लेग हुआ तब उन्होंने सफाई का काम किया. उन्होंने स्वास्थ्य की चिंता किए बिना काम किया. वह आरामदायक जीवन जी सकती थीं लेकिन उन्होंने सेवा का रास्ता चुना.

एक कॉलर के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि आज बड़ा आश्चर्य होता है कि जब सुनते हैं कि बच्चों को भी डायबिटीज होता है. पहले ऐसे रोगों को राजरोग कहा जाता था क्योंकि ये संपन्न और ऐशोआराम वालों को हुआ करती थीं. लेकिन युवा उम्र में ये बीमारियां होने की वजह खान पान के तरीकों में बदलाव और जीवन शैली में बदलाव के चलते हैं. हमें अपनी आदतें बदलने की जरूरत है. उन्होंने चिल्ड्रन्स डे पर बच्चों की शुभकामनाएं दीं.

ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन पर यह कार्यक्रम प्रसारित हो रहा है. पीएम मोदी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर इस कार्यक्रम के लिए जनता से अपने विचार और सुझाव भी मांगे थे.

पिछली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 36वें रेडियो पर मन की बात में दो वीर महिलाओं का जिक्र किया था जिनके पति देश के लिए आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए. इसके बावजूद इन महिलाओं ने हिम्मत नहीं हारी बल्कि पति के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए सेना में लेफ्टिनेंट के तौर पर शामिल हुईं.

Back to top button