‘मैं भी चौकीदार’ के मेगा शो पर बोले PM मोदी- देश में बैठा हर व्यक्ति चौकीदार

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आलोचकों ने मेरी प्रसिद्धि ज्यादा कर दी है। मोदी ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान के तहत वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेशेवर, कारोबारियों व चौकीदारों से सीधे बातचीत कर रहे हैं। इस कार्यक्रम को समूचे देश में 500 स्थानों पर प्रसारित किया जा रहा है।

आलोचकों ने मुझे ज़्यादा मशहूर किया

आज देशभर में करीब 500 से अधिक स्थानों पर, देश के लिए कुछ कर गुजरने वाले, देश के सम्मान में ही अपना गर्व अनुभव करने वाले लाखों लोगों से तकनीक के माध्यम से मुझे मिलने का सौभाग्य मिला है। आलोचकों ने मुझे ज़्यादा मशहूर किया 2014 के पहले मुझे कुछ ही लोग जानते ही जानते थे। 2014 में लोगों ने मुझे देश का चौकीदार बनाया, चौकीदार की जिम्मेदारी पूरी तरह निभा रहा हूं।

मैंने तब कहा था कि मेरी ये कोशिश रहेगी कि मैं जनता के पैसे पर पंजा नहीं पड़ने दूंगा। एक चौकीदार के रूप में मैं अपनी जिम्मेदारी निभाऊंगा। 2014 में भाजपा ने मुझे दायित्व दिया उसके बाद मुझे देश के कौने कौने में जाने की नौबत आयी। तब मैंने देश के लोगों से कहा थी कि आप दिल्ली का दायित्व जो मुझे दे रहे हैं उसका मतलब है कि आप एक चौकीदार बैठा रहे हैं।

देश के कोने-कोने में बैठा हर व्यक्ति चौकीदार

चौकीदार न कोई व्यवस्था है, न कोई यूनिफॉर्म की पहचान है न कोई चौखट में बंधा है। चौकीदार एक स्प्रिट है, एक भावना है। गांव में, शहर में रहने वाला हर शख़्श चौकीदार, पढ़ा लिखा हो या अनपढ़ हो हर व्यक्ति चौकीदार। मुझे विश्वास है कि देश की जनता चौकादार पसंद करती है। देश की जनता को राजा-महाराजाओं की जरूरत नहीं है और इसलिए मुझे खुशी है कि चौकादार का भाव निरंतर विस्तार होता जा रहा है। कांग्रेस चौकीदार का मतलब समझ नहीं पा रही है।

जवानों को किया सलाम

बालाकोट मैंने नहीं किया, देश के जवानों ने किया है, हमारे सुरक्षा बलों ने किया है। इसलिए हम सबकी तरफ से उन्हें, सैल्यूट। आज दुनिया में जो हिंदुस्तान की बात सुनी जाती है उसका कारण मोदी नहीं पूर्ण बहुमत की सरकार है। मुझ जैसे राष्ट्रीय राजनीति में अनजान व्यक्ति को देश की जनता ने 30 साल बाद पूर्ण बहुमत दिया। हमारे देश के राजनीतिक दलों को भी नहीं पता है कि पूर्ण बहुमत वाली सरकार अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण होती है। अगर मोदी अपने राजनीतिक भविष्य का सोचता, तो वो मोदी नहीं होता। अगर यही राजनीतिक पैंतरेबाजी से देश चलाना होता, अपने राजनीतिक हित को लेकर फैसले करने होते, तो मोदी की देश को कोई जरूरत नहीं थी।

मेरे लिए देश priority

पाकिस्तान को लगता होगा की मोदी चुनाव में busy होगा तो शायद कुछ करेगा नहीं। दुनिया का कोई नेता जब मुझसे हाथ मिलाता है या गले लगता है, तो उसे मोदी नहीं दिखता। पूर्ण बहुमत वाली सरकार के माध्यम से सवा सौ करोड़ देशवासी उसे दिखते हैं, तब जाकर बराबरी वाली बात होती है।

Back to top button