राष्ट्रीय

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए स्वामित्व योजना की शुरुआत की

इस योजना से 6 राज्यों के 763 पंचायतों के एक लाख लोग लाभान्वित

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंचायतीराज मंत्रालय के तहत शुरू हुई स्वामित्व योजना कि शुरुआत की. इस योजना से 6 राज्यों के 763 पंचायतों के एक लाख लोग लाभान्वित हो रहे हैं. इनमें उत्तर प्रदेश के 346, हरियाणा के 221, महाराष्ट्र के 100 मध्य प्रदेश के 44, उत्तराखंड के 50 और कर्नाटक के दो पंचायत शामिल हैं.

पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस महात्वाकांक्षी योजना की शुरुआत की. इस योजना की शुरुआत करने के बाद करीब एक लाख लोगों को प्रॉपर्टी कार्ड वितरित किए जाएंगे. यह कार्ड मोबाइल फोन पर एसएमएस के जरिए भेजे गए लिंक से डाउनलोड किया जा सकेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योजना की शुरुआत के बाद वैसे लोगों से बात की जिन्हें केंद्र सरकार ने स्वामित्व कार्ड मुहैया कराया है. इस दौरान पीएम ने कहा कि अब आपकी संपत्ति कोई गलत नजर नहीं डाल सकेगा. स्वामित्व कार्ड से सामाजिक आर्थिक मजबूती मिली इस दौरान इस कार्ड को पाने वाले लाभुकों ने कहा कि संपत्ति कार्ड मिलने से उन्हें सामाजिक और आर्थिक मजबूती मिली है. पीएम के साथ बातचीत में कार्डधारकों ने कहा कि इस कार्ड के जरिए उन्हें बैंक से आसानी से लोन मिलने लगे हैं, साथ ही गांवों में उनका संपत्ति का झगड़ा भी खत्म हो गया है.

पीएम ने कहा कि आज 1 लाख लोगों को कार्ड मिलने से वे ताकतवर महसूस कर रहे हैं. इस योजना से गांव में रहने वाले लोगों की जिंदगी में ऐतिहासिक बदलाव होगा. पीएम ने कहा कि आज आपके पास एक अधिकार है, एक कानूनी दस्तावेज है कि आपका घर आपका ही है, आपका ही रहेगा. ये योजना हमारे देश के गांवों में ऐतिहासिक परिवर्तन लाने वाली है.

पीएम ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान में आज देश ने एक और बड़ा कदम उठा दिया है. स्वामित्व योजना, गांव में रहने वाले हमारे भाई-बहनों को आत्मनिर्भर बनाने में बहुत मदद करने वाली है. उन्होंने कहा कि ये योजना गांवों में स्वामित्व से जुड़ी कई लड़ाइयां खत्म करेगी.

गरीब की आवाज बुलंद करना

जेपी और नानाजी के जीवन का साझा संकल्प पीएम मोदी ने लोक नायक जय प्रकाश नारायण और नाना जी देशमुख को याद करते हुए कहा कि मुझे बहुत खुशी है कि आज इतना विराट काम, उस दिन हो रहा है, जब भारत के दो-दो महान सपूतों की जन्म जयंती है. पीएम ने कहा कि गांव और गरीब की आवाज को बुलंद करना जेपी और नानाजी के जीवन का साझा संकल्प रहा है. नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब संपत्ति का रिकॉर्ड होता है, जब संपत्ति पर अधिकार मिलता है तो नागरिकों में आत्मविश्वास बढ़ता है. जब संपत्ति का रिकॉर्ड होता है तो निवेश के लिए नए रास्ते खुलते हैं. पूरे विश्व के बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स इस बात पर जोर देते रहे हैं कि जमीन और घर के मालिकाना हक की, देश के विकास में बड़ी भूमिका होती है.

गांव को नसीब के भरोसे छोड़ दिया गया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कांग्रेस पर भी हमला किया. पीएम ने कहा कि पहले भले ही कहा जाता हो कि भारत की आत्मा गांवों में बसती हो लेकिन तब गांवों को उनके नसीब पर छोड़ दिया गया था. सारी समस्याएं गांवों में ही थी. पीएम ने कहा कि 6 दशकों तक गांव के करोड़ों लोग बैंक खातों से वंचित थे, ये खाते अब जाकर खुले हैं. 6 दशकों तक, गांव के करोड़ों परिवार शौचालय से वंचित थे. आज घर-घर में शौचालय भी बन गए हैं. दशकों तक गांव का गरीब गैस कनेक्शन से वंचित था. आज गरीब के घर भी गैस कनेक्शन पहुंच गया है. दशकों तक गांव के करोड़ों परिवारों के पास अपना घर नहीं था. आज गांव के करीब-करीब 2 करोड़ गरीब परिवारों को पक्के घर मिल चुके हैं. पीएम ने हाल ही में बने कृषि कानूनों का जिक्र किया और कहा कि जो लोग इन कानूनों का विरोध कर रहे हैं, उनकी चिंता किसानों को लेकर नहीं है, वे कृषि क्षेत्र में दलाली, कमीशनखोरी बंद होने को लेकर चिंतित हैं.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button