राजनीतिराष्ट्रीय

पीएम मोदी ने कहा राजनीतिक दलों में सच्ची ‘सच्ची लोकतांत्रिक भावना’ का विकास जरूरी

पीएम मोदी ने कहा राजनीतिक दलों में सच्ची ‘सच्ची लोकतांत्रिक भावना’ का विकास जरूरी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राजनीतिक दलों में आंतरिक लोकतंत्र पर चर्चा का आह्वान किया और कहा कि देश के भविष्य के लिए पार्टियों के भीतर ‘‘सच्ची लोकतांत्रिक भावना’’ का विकास आवश्यक है. मोदी ने ये टिप्पणियां यहां भाजपा मुख्यालय में आयोजित दीवाली मिलन कार्यक्रम में मीडिया को संबोधित करते हुए कीं. उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों की फंडिंग पर अक्सर चर्चा होती है, लेकिन उनके मूल्यों, विचारधारा, आतंरिक लोकतंत्र और वह नई पीढ़ी के नेताओं को किस तरह अवसर प्रदान करती हैं, इस बारे में चर्चा नहीं होती.

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश पार्टियों के भीतर लोकतंत्र को लेकर ज्यादा अवगत नहीं है और मीडिया को इस पर ध्यान देना चाहिए. मोदी ने कहा, ‘‘लोकतांत्रिक मूल्य उनके (पार्टियों के) मूलभूत मूल्य हैं या नहीं, इस बारे में व्यापक चर्चा होनी चाहिए…मेरा मानना है कि राजनीतिक दलों के भीतर सच्ची लोकतांत्रिक भावना का विकास न सिर्फ देश के भविष्य के लिए, बल्कि लोकतंत्र के लिए भी आवश्यक है.

हालांकि प्रधानमंत्री ने किसी प्रतिद्वंद्वी पार्टी का नाम नहीं लिया, लेकिन उनकी टिप्पणियां इन खबरों की पृष्ठभूमि से संबंधित हो सकती हैं कि कांग्रेस अपने उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पदोन्नत कर सोनिया गांधी की जगह अध्यक्ष बना सकती है. कांग्रेस पर भाजपा अक्सर वंशवाद की राजनीति अपनाने का आरोप लगाती रही है और खुद को यह कहकर एक अलग पार्टी बताती रही है कि उसके कार्यकर्ता शीर्ष पदों पर पहुंचे हैं.

मोदी ने यह भी माना कि भाजपा के भीतर कई तरह की आवाज हैं. उन्होंने रेखांकित किया कि जनसंघ के समय जब यह छोटा संगठन था तब केंद्रीय नेतृत्व से लेकर सतही कार्यकर्ताओं तक विचारधारात्मक सामंजस्य’’ हुआ करता था. उन्होंने कहा कि भिन्न विचारों का कारण पार्टी का विस्तार हो सकता है.

मोदी ने स्वच्छ भारत मिशन को समर्थन के लिए मीडिया की भी तारीफ की और कहा कि मीडिया इस मुद्दे पर एक सुर में बोली है, जबकि यह अन्य मुद्दों पर सरकार की आलोचक भी रही है. उन्होंने कहा कि मीडिया ‘‘मिशन मोड’’ में योजना से जुड़ी है. उन्होंने यह भी कहा कि देश को अभी स्वच्छता के अंतरराष्ट्रीय मानकों तक पहुंचने के लिए लंबी दूरी तय करनी है, लेकिन अभियान ने इसके पक्ष में एक माहौल पैदा किया है.

प्रधानमंत्री ने इस मौके पर कुछ चुटकियां भी लीं और मुख्यालय में पार्टी पदाधिकारी के रूप में अपने शुरुआती दिनों को याद किया जब वह मीडियाकर्मियों का स्वागत किया करते थे. उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी और मीडिया एक-दूसरे से उम्मीद और शिकायतें रख सकते हैं, लेकिन मतभेदों के बावजूद उन्हें खुशी से एकसाथ चलना होता है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
पीएम मोदी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *