राजनीतिराज्यराष्ट्रीय

आज सासाराम, गया और भागलपुर में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे पीएम मोदी

पीएम के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मंच साझा करेंगे

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव के के मद्देनजर प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी आज राज्य में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे. यह तीन रैलियां चुनाव प्रचार के पहले दिन सासाराम, गया और भागलपुर में होने वाली है.

इस दौरान पीएम के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मंच साझा करेंगे. ऐसे में यह देखना बेहद दिलचस्प रहेगा कि एनडीए से अलग होकर अकेले चुनावी मैदान में उतरी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) पर पीएम मोदी क्या बोलते हैं, क्योंकि चिराग पासवान बिहार में चुनावी रणभूमि में पीएम मोदी के नाम पर और नीतीश के खिलाफ वोट मांग रहे हैं.

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए में मनमुताबिक सीटें न मिलने से एलजेपी अकेले चुनावी मैदान में उतरी है. चिराग पासवान ने जेडीयू के खिलाफ सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं. वे नीतीश पर जमकर हमलावर हैं.

यही नहीं सीट शेयरिंग में जिन बीजेपी नेताओं की सीटें जेडीयू के खाते में चली गई हैं, उन्हें चिराग पासवान ने अपनी पार्टी से प्रत्याशी बना दिया है. ऐसे ही करीब 15 सीटों पर जेडीयू के बागी नेता भी चुनाव लड़ रहे हैं.

चिराग खुद को बता रहे मोदी का हनुमान हालांकि, बीजेपी और जेडीयू दोनों पार्टियों ने अपने-अपने बागी नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है. इसके बावजूद पार्टी में भीतरघात का खतरा तो बना ही हुआ है, क्योंकि बीजेपी के तमाम बागी नेता पीएम नरेंद्र मोदी के नाम और काम पर ही वोट मांग रहे हैं. एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान लगातार नीतीश कुमार पर हमलावर हैं, लेकिन बीजेपी को लेकर सॉफ्ट रुख अपनाए हुए हैं. इतना ही नहीं चिराग खुद को पीएम मोदी का हनुमान बता रहे हैं.

चिराग पासवान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं. चिराग ने अब नीतीश पर बीजेपी से भीतरघात करने का आरोप लगाया है. चिराग ने ट्विटर पर लिखा, ‘पिछली बार लालू प्रसाद यादव के आशीर्वाद से नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने और फिर उनको धोखा देकर प्रधानमंत्री पीएम मोदी के आशीर्वाद से रातो-रात मुख्यमंत्री बन गए. इस बार कहीं नरेंद्र मोदी का आशीर्वाद लेकर फिर लालू प्रसाद के शरण में ना चले जाएं साहब.’

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button