राष्ट्रीय

धाम से PM मोदी बोले पर्यावरण और प्रकृति की रक्षा करना हमारी जिम्मेदारी

गोवर्धन पूजा के पावन अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ धाम पहुंचे। जहां बाबा केदार की पूजा के बाद प्रधानमंत्री ने वहां मौजूद भक्तों को ‘जय-जय केदार’ के आह्वान के साथ संबोधित किया। गढ़वाली भाषा में सभी आभार प्रकट करते हुए प्रधानमंत्री ने अपना भाषण शुरू किया और लोगों को नए वर्ष की शुभकामना दी।

मोदी बोले- एक फिर बाबा ने मुझे बुलाया है। यहां मुझे जीवन के महत्वपूर्ण वर्ष बिताने का मौका मिला था, लेकिन बाबा ने मुझे देश के सवा करोड़ लोगों की सेवा करने के लिए यहां से वापस भेज दिया। यही बाबा केदार की सच्ची सेवा है। एक बार फिर यहां से नई ऊर्जा प्राप्त करके, पूर्ण प​वित्र मन से और हिंदुस्तान को दुनिया की ऊंचाई पर पहुंचाने के संकल्प से देश को आगे बढ़ाने के लिए मेहनत करेंगे। पीएम मोदी ने बाबा केदार के धाम से मिशन 2022 का संकल्प लिया।

कहा कि आपदा 2013 के वक्त जब सबको यह खबर मिली कि मोदी केदारनाथ के पुर्ननिर्माण की जिम्मेदारी ले रहा है। तो दिल्ली में कोहराम मच गया। आनन फानन में राज्य सरकार को घोषणा करनी पड़ी कि हमें गुजरात सरकार की मदद की जरूरत नहीं है।

समय सीमा में केदारनाथ का पुनर्निर्माण किया गया है। धाम के साथ ही यहां के पुरोहितों की जरूरतों को केंद्रबिंदु बनाकर पुनर्निर्माण की प्लानिंग की गई। सभी बातों का ध्यान में रखते हुए विकास का खाका तैयार किया गया। पुरोहित को रहने के लिए थ्री इन वन रूम मिलेंगे। 24 घंटे बिजली पानी होगा। स्वच्छता की प्रबंध होगा। सड़कें चौड़ी की जाएंगी। मंदाकिनी के घाट को भी व्यव​स्थित किया जाएगा। जाकि लोग नदी की सुंदरता को देख सकें। आज यहां से पांच परियोजनाओं का शिलान्यास हो रहा है। मंदाकिनी और सरस्वती संगम पर घाट बनेगा।

देश की सरकार और जनता, संस्थाएं, उद्योगपति, व्यापारी अगर मदद के लिए आगे आएंगे तो वैसा ही पुनर्निर्माण होगा जैसा हम चाहते हैं। मैं सभी का मदद के लिए आह्वान करता हूं। हिमालय की गोद में एडवेंचर, जल स्रोतों, जड़ीबूटी की अपार संपदा है। घर-घर में लोगों को जड़ी का ज्ञान है। मोदी ने कहा कि पर्यावरण और प्रकृति की रक्षा करना हमारी जिम्मेदारी है। खुले में शौच से मुक्त राज्य बनने के लिए इसे मिशन के तहत चलाना होगा।

इससे पहले राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा ​कि पीएम मोदी का आभार प्रकट करता हूं कि छह माह में वह दूसरी बार बाबा केदार के दर पर आए। यह ऐतिहासिक कदम है। इसके सा​थ ही राज्यपाल केके पॉल ने भी पीएम मोदी का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने सीमा पर जवानों के साथ दिवाली का त्योहार मनाया। यह उत्तराखंड के ​लिए गर्व की बात है।

इससे पहले बुधवार सुबह 10 बजकर 17 मिनट पर प्रधानमंत्री ने मंदिर में प्रवेश किया और मंत्रोच्चारण के साथ भगवान शिव की पूजा में लीन हो गए। इसके बाद भगवान शिव का रुद्राभिषेक किया। 11 बजे मोदी जनसभा स्थल पर पहुंचे और हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन किया। सीएम रावत ने स्मृति चिन्ह भेंट कर मंच पर पीएम मोदी का स्वागत किया।

पूजा के बाद 10 बजकर 40 मिनट पर पूजा संपन्न होने के बाद पीएम मोदी मंदिर के गर्भगृह से बाहर आ गए। मंदिर परिसर में आने से पूर्व मोदी ने धाम में मौजूद करीब एक हजार लोगों का अभिवादन स्वीकार किया और उनसे बातचीत की। बाहर आने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने मंदिर के आसपास के क्षेत्र का जायजा लिया। जिसके बाद उन्होंने उस भीम शिला के दर्शन ​किए, जिसने केदारनाथ मंदिर को तबाही से बचाया था।

पीएम मोदी के साथ राज्यपाल केके पॉल, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट भी मौजूद हैं। पूजा के बाद सुबह 10 बजकर 50 मिनट में पीएम मोदी केदारपुरी में जन सभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद प्रधानमंत्री केदारपुरी में होने वाले कार्यों का शिलान्यास करेंगे।
इससे पूर्व सुबह करीब 8.55 बजे पीएम मोदी सेना के विशेष विमान से देहरादून स्थित जौलीग्रांट हवाई अड्डे पर पहुंचे। इसके बाद वह हेलीकॉप्टर से केदारनाथ को रवाना हुए। सुबह करीब पौने दस बजे उनका हेलीकॉप्टर केदारनाथ पहुंच गया। हेलीपैड से वह एटीवी वाहन से मंदिर तक पहुंचे।

इसके बाद उन्होंने पूजा के लिए मंदिर में प्रवेश किया। इस दौरान मंदिर के पुरोहित ने पारंपरिक तरीके से पीएम मोदी का स्वागत किया। मोदी निर्माण कार्यों की जायजा लेने के साथ ही उनका लोकार्पण व शिलान्यस भी करेंगे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
नरेंद्र मोदी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.